पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >राजस्थान Print | Share This  

हिरण शिकार कांड में आरोप तय

हिरण शिकार कांड में आरोप तय

जोधपुर. 23 मार्च 2013

सलमान खान


जोधपुर की एक अदालत ने बॉलीवुड फ़िल्म सितारे, सैफ़ अली ख़ान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे और नीलम के ख़िलाफ़ वन्य जीवन सुरक्षा क़ानून के तहत मामला दर्ज किया है. इन लोगों के ख़िलाफ़ ये मुक़दमा अभिनेता सलमान ख़ान को 14 साल पहले एक हिरण के शिकार में मदद करने के लिए दर्ज किया गया है. सलमान ख़ान के वकील का कहना था कि वो बीमारी की वजह से ख़ुद अदालत में हाज़िर नहीं हो पाए हैं. जज ने सलमान ख़ान को अदालत में हाज़िर न रहने की छूट दे दी है. अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 27 मार्च की तारीख़ तय की है.

गौरतलब है कि सलमान खान समेत इन सभी पर आरोप था कि इन लोगों ने 1-2 अक्टूबर 1998 की रात को फिल्म ‘हम साथ साथ हैं’ की शूटिंग करने के बाद कांकाणी की सीमा पर 2 काले हिरणों का शिकार किया था. बाद में जब इन आरोपियों को पकड़ा गया तो ये सारे आरोपी इससे मुकर गये. इस मामले में देश भर में हंगामा हुआ. बाद में अदालत ने सलमान खान के खिलाफ भारतीय दंड संहिता, वन्यजीव संरक्षण अधिनियम और सैन्य अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत अभियोग तय किया. दूसरे आरोपियों सैफ अली खान, तब्बू, सोनाली बेंद्रे, नीलम, दुष्यत सिंह और दिनेश गावरे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत आरोप निर्धारित किये गये.

हालांकि बाद में इन आरोपियों की अपील पर सलमान खान को भारतीय दंड संहिता की धारा 148 और शस्त्र कानून की धारा 27 से मुक्त कर दिया गया. इसी तरह अन्य आरोपियों को वन्य जीव कानून की धारा 51 और आईपीसी की धारा 147 तथा 149 से मुक्ति मिल गई. लेकिन जब मामला उपरी अदालत में पहुंचा तो राजस्थान उच्च न्यायालय ने सत्र न्यायालय के फैसले को बरकरार रखा लेकिन सलमान के अलावा दूसरे आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 149 को भी जोड़ने के आदेश दिये.

यह जानना भी दिलचस्प है कि काले हिरणों के शिकार के मामले में तीन अदालतों को आरोप तय करने में 14 साल लग गए. हालत ये है कि कानून को ठेंगे पर रख कर चलने की कोशिश करने वाले इन आरोपियों में से कोई भी पिछले 6 सालों से एक बार भी सुनवाई के लिये अदालत में नहीं पहुंचे.

सलमान खान समेत दूसरे आरोपियों के खिलाफ अभियोग निर्धारित करने के लिये 4 फरवरी की तारीख तय की गई थी. अदालत ने इन सभी आरोपियों को उपस्थित होने के निर्देश जारी किये थे. इनके खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम की धारा 51 और दूसरे आरोपियों सैफ अली खान, नीलम, तब्बू, सोनाली बेंद्रे व दुष्यंत सिंह के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम की धारा 51 और विकल्प में धारा 52 के साथ-साथ भारतीय दंड संहिता की धारा 149 के तहत अभियोग लगाये जाने की उम्मीद है. शनिवार की पेशी के लिये सलमान खान, सैफ अली खान, सोनाली बेंद्रे, तब्बू और नीलम के जोधपुर पहुंचने की खबर है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in