पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राज्य > उ.प्र. Print | Send to Friend | Share This 

निठारी हत्याकांड : मोनिंदर सिंह पंधेर बरी

निठारी हत्याकांड : मोनिंदर सिंह पंधेर बरी

इलाहाबाद. 11 सितंबर 2009


इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को निठारी कांड के एक मामले में मनिंदर सिंह पंधेर को बरी कर दिया. लेकिन इसी मामले के अन्य आरोपी सुरेंद्र कोली को मिला मृत्युदंड बरकरार रखा गया. न्यायमूर्ति इम्तियाज मुर्तजा और न्यायमूर्ति केएन पांडे की खंडपीठ ने इस आदेश को देते हुए कहा कि पंधेर के खिलाफ ऐसे कोई सुबूत नहीं दिए गए जिससे यह साबित हो कि वह दोषी है. हालांकि इस मामले में बरी हो जाने के बाद भी पंधेर निठारी कांड से जुड़े 17 अन्य अपराधिक मामलों का अभियुक्त है.

इससे पहले सीबीआई की विशेष अदालत ने पंधेर और उसके नौकर के 15 वर्षीय रिंपा हलदार के अपहरण, बलात्कार और फिर हत्या का दोषी मानते हुए दोनों को फांसी की सज़ा सुनाई थी. इसके बाद पंधेर ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय में इस फैसले के खिलाफ याचिका दायर की थी. जिसकी सुनवाई में उसे निर्दोष मानते हुए बरी कर दिया गया. उधर उच्च न्यायालय के इस फैसले के बाद पीड़ितों के परिवार वालों ने मनिंदर सिंह पंधेर की कोठी पर जमकर पथराव किया.

इस फैसले के बारे में पीड़ितों के वकील ख़ालिद ख़ान ने पत्रकारों से कहा कि सीबीआई की गलत पैरवी के कारण ये फैसला आया है और वे इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे. गौरतलब है कि दिसंबर 2006 में निठारी कांड सामने आया था जिसमें पंधेर की नोएडा के सेक्टर-31 की कोठी नंबर डी−5 के पीछे एक के बाद एक 15 बच्चों के कंकाल निकले थे. जाँच पर पता चला कि इन बच्चों की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी. इस मामले में पंधेर और उसके नौकर सुरेंद्र कोली को सह अभियुक्त बनाया गया था.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in