पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

अरविंद और अन्ना फिर एक साथ

अरविंद और अन्ना फिर एक साथ

नई दिल्ली. 30 मार्च 2013

अरविंद केजरीवाल


अरविंद केजरीवाल और अन्ना हजारे के एक बार फिर एक मंच पर नजर आने के बाद राजनीतिक अटकलें तेज हो गई हैं. अरविंद केजरीवाल के खिलाफ गंभीर आरोप लगाने वाले अन्ना हजारे को लेकर यह तय माना जा रहा था कि अब अन्ना हमेशा-हमेशा के लिये एक दूसरे का साथ छोड़ चुके हैं. लेकिन शुक्रवार को ऐसे सारे अनुमान ध्वस्त हो गये. अब कहा जा रहा है कि जल्दी ही दोनों सामाजिक कार्यकर्ता एक साथ रणनीतियां तय करते नजर आ सकते हैं.

बिजली पानी के मुद्दे पर पिछले सात दिनों से अनशन पर बैठे अरविंद केजरीवाल को मनाने के लिये अन्ना हडारे खुद अरविंद केजरीवाल के पास पहुंच गये. बाद में उन्होंने कहा कि हमारे रास्ते अलग जरूर हैं, लेकिन मंजिल एक है. उन्होंने कहा कि हमें जहां-जहां एक दूसरे की जरूरत पड़ेगी हम साथ देंगे. अन्ना ने कहा कि चुनाव की घोषणा होते ही वह दिल्ली के रामलीला मैदान में अनशन शुरू कर देंगे.

अन्ना हजारे ने कहा कि अरविंद केजरीवाल के अनशन के सात दिन हो गए हैं. अभी उनकी तबीयत ठीक नहीं है. उन्हें एक-दो दिन बाद अनशन तोड़ देना चाहिए. आज लोग सब उनके पीछे खड़े हैं, इसके कारण उनको शक्ति मिल रही है. यह शक्ति मिलती रहेगी, लेकिन मैंने अरविंद को समझाया कि हम जैसे आंदोलनकारी मर जाएं, सरकार यही चाहती है. अनशन से लोगों में जागरुकता आ गई है. अरविंद अनशन तोड़ें और तंदुरुस्त होकर फिर से लड़ाई के लिए तैयार हो जाएं. यह लड़ाई लंबी है. अरविंद गरीबों पर हो रहे अन्याय के खिलाफ लड़ रहे हैं.

अरविंद केजरीवाल को लेकर अपनी समझ को लेकर अन्ना हजारे ने कहा कि अरविंद और हमारा रास्ता अलग जरूर है, लेकिन मंजिल एक है. मेरी उनसे अपील है कि एक-दो दिन बाद अनशन को खत्म करो. मुझे यकीन है कि लोग जाग गए हैं.