पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >उ.प्र. Print | Share This  

न्याय के लिए अनशन भी करूंगी: परवीन

न्याय के लिए अनशन भी करूंगी: परवीन

लखनऊ. 1 अप्रैल 2013

parveen azad


प्रतापगढ़ के कुंडा में मारे गए डीएसपी जिया-उल-हक की पत्नी परवीन आजाद का कहना है कि अगर उन्हें न्याय नहीं मिलता है तो वो देशभर में `इंसाफ यात्रा’ निकालेंगी. कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच कुंडा पहुँची परवीन ने वहां मौजूद सीबीआई अधिकारियों से बातचीत करने के बाद मीडिया से कहा कि दोषियों को सज़ा दिलवाना ही उनका एकमात्र मकसद है. साथ ही उन्होंने उन पुलिसकर्मियों पर देशद्रोह का मामला दर्ज कराने की मांग की जो डीएसपी का साथ छोड़कर भाग गए थे.

सीबीआई की अब तक की जाँच को संतोषजनक बताते हुए परवीन ने कहा कि वे सीबीआई की जाँच पर नज़र रखे हुए है लेकिन अगर उन्हें न्याय नहीं मिला तो वो इंसाफ यात्रा निकालेंगी और अनशन करेंगी. कुंडा में एसडीएम और सीबीआई अधिकारियों की मौजूदगी में जिया-उल-हक का बंद पड़ा घर खोला गया और उनका निजी सामान उनकी विधवा परवीन को सौंप दिया गया. सीबीआई को घर में जिया-उल-हक की निजी डाय़री भी मिली जिसे जब्त कर लिया गया. सीबीआई मान रही है कि इस डायरी से उसे मामले की आगे की तफ्तीश करने में मदद मिलेगी.

सरकारी नौकरी के बारे में पूथे जाने पर परवीन ने कहा कि दोषियों को सजा दिलाने के लिए उन्हें किसी सरकारी नौकरी की परवाह नहीं है. हालांकि परवीन ने उत्तरप्रदेश के बाहुबली नेता और कुंडा से विधायक राजा भैय्या के बारे में कुछ भी स्पष्ट बोलने से बचते हुए कहा कि राजा हो या प्रजा, जो भी दोषी हो, उसे सजा मिलनी चाहिए.

उल्लेखनीय है कि डीएसपी जिया-उल-हक की हत्या के बाद परवीन आजाद ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि गुलशन यादव, हरी ओम, रोहित सिंह और गुड्डू सिंह राजा भैया के गूर्गे है और राजा भैया के कहने पर मेरे पति को जान से मारने की नीयत से वहां पहुंचे थे. इन चारों ने कुछ अन्य लोगों के साथ मिल कर पहले मेरे पति और डीएसपी जिया उल हक को लाठी , डंडा और सरिया से मारा. जब वह गिर गए तो उनको तमंचे से गोली मार दी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

ABDUL HAMID NSARI [ahansari.india@yahoo.co.in] Kolkata - 2013-04-01 07:39:47

 
  परवीन हम आपके साथ हैं. आप एक मिसाल है किसी और औरत के लिए भी. आप एक बहादुर और फाइटर हैं. आपके हौसले को सलाम करता हूं. आप अपने हक की लड़ाई जरूर लड़ें. आपके जज्बे को भी सलाम है. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in