पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >खेल >दिल्ली Print | Share This  

विजेंदर के डोप टेस्ट का आदेश

विजेंदर के डोप टेस्ट का आदेश

नई दिल्ली. 2 अप्रैल 2013

विजेंदर


खेल मंत्रालय ने नैशनल ऐंटि डोपिंग एजेंसी यानी नाडा को बॉक्सर विजेंदर सिंह का डोप टेस्ट करने का निर्देश दिया है. नाडा के डायरेक्टर जनरल मुकुल चटर्जी को भेजे गए निर्देश में खेल मंत्रालय ने कहा है कि मीडिया में विजेंदर द्वारा कथित रूप से हेरोइन लिए जाने की खबरें चिंताजनक थीं इसलिए उन्होंने उनका डोप टेस्ट करने का निर्देश दिया.

खेल मंत्रालय की विज्ञप्ति में कहा गया है कि स्टार बॉक्सर विजेंदर के बारे में इस तरह रिपोर्टें चिंताजनक हैं और इससे देश के अन्य खिलाड़ियों का मनोबल गिरेगा. इसलिए यह जरूरी समझा गया कि नाडा विजेंदर के हेरोइन के इस्तेमाल किए जाने के लिए टेस्ट कराए, भले ही यह टूर्नामेंट से बाहर की जाने वाली जांच हो. नाडा को मंत्रालय की सूचना मिलते ही तुरंत टेस्ट कराने का निर्देश दिया जाता है. दूसरी ओर नाडा ने कहा है कि विजेंदर का डोप टेस्ट करना उसकी कोई मजबूरी नहीं है और इस मामले में वह अपने प्रोटोकॉल का पालन करेगा.

इससे पहले यह बात सामने आई थी कि विजेंदर ने कम से कम 12 बार मादक पदार्थ का सेवन किया था. पंजाब पुलिस के मुताबिक दिसंबर 2012 से फरवरी 2013 के बीच विजेंदर ने करीब 12 बार और राम सिंह ने 5 बार हेरोइन ली. पंजाब पुलिस ने इस मामले को लेकर जारी एक बयान में कहा था कि यह बात पुष्ट हो गई है कि बॉक्सर राम सिंह और विजेंदर सिंह ने अनूप सिंह और रॉकी से खुद के इस्तेमाल के लिए हेरोइन ली थी. अभी तक हुई जांच में सामने आया है कि विजेंदर सिंह ने करीब 12 बार ड्रग्स ली. राम सिंह ने करीब 5 बार इसका सेवन किया. हालांकि वे स्मगलर्स के साथ सक्रिय रूप से जुड़े हुए नहीं थे.

गौरतलब है कि एनआरआई अनूप सिंह और उसके सहयोगी रॉकी को फतेहगढ़ साहिब की पुलिस ने ड्रग्स तस्करी के आरोपी में 7 मार्च को गिरफ्तार किया था और कहलों के घर से 130 करोड़ रुपये की हेरोइन भी पुलिस ने बरामद की थी. यहीं पर विजेंदर की कार भी मिली थी. लेकिन विजेंदर ने कहलों को जानने से इंकार कर दिया था. हालांकि विजेंदर के साथी बॉक्सर रामसिंह ने माना था कि रामसिंह और विजेंदर कभी-कभार ड्रग्स लिया करते थे. इस बयान के बाद राम सिंह को पुलिस की नौकरी से निकाल दिया गया था. राम सिंह के इस बयान से इंकार करने वाले विजेंदर अभी भी डीएसपी के पद पर हैं.

इधर पुलिस ने जो सबूत एकत्र किये हैं, उनमें कहलों, राम सिंह और विजेंदर के आपसी रिश्तों के तार साफ-साफ जुड़ रहे हैं. तीनों एक दूसरे के संपर्क में थे, फोन पर बतियाते थे और यहां तक कि पंजाब और दिल्ली की पार्टियों में भी एक साथ जाते थे. उन्होंने एक होटल का साथ-साथ उद्घाटन किया था, उसकी तस्वीर भी पुलिस के पास है.

इससे पहले अनुमान था कि विजेंदर के बाल और रक्त का नमूना लेने लिये पुलिस अदालत जाएगी. लेकिन खेल मंत्रालय के कड़क रुख को देखते हुये अनुमान लगाया जा रहा है कि विजेंदर अब अपने टेस्ट के लिये तैयार हो जाएंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in