पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

धर्मपाल को होगी अंबाला में फांसी

धर्मपाल को होगी अंबाला में फांसी

नई दिल्ली. 5 अप्रैल 2013

रेप


रेप और हत्या के आरोपी हरियाणा के धर्मपाल को अंबावा जेल में फांसी दी जाएगी. अंबाला के जेल अधीक्षक ने इसकी पुष्टि करते हुये कहा कि रोहतक जेल में फांसी देने की सुविधा नहीं है, इसलिये धर्मपाल को अंबाला जेल लाया जा सकता है. पिछले 14 सालों से उसकी दया याचिका राष्ट्रपति के पास लंबित थी, जिसे राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने खारिज कर दिया है. धर्मपाल पर रेप और बाद में रेप पीड़िता के परिवार वालों की हत्या का आरोप है.

रोहतक जेल में बंद धर्मपाल पर आरोप है कि 1991 में उसने सोनीपत में एक लड़की के साथ रेप किया था. इस मामले में उसे 10 साल की सजा सुनाई गई थी. लेकिन 1993 में जब वह 5 दिनों के लिये पैरोल पर रिहा हुआ तो अपने भाई निर्मल के साथ उसने रेप पीड़िता के घर रात में घुस कर पीड़िता के माता-पिता तले राम और कृष्णा, बहन नीलम, भाई प्रवीण और टीनू की लाठी से पीट-पीट कर हत्या कर दी.

इस मामले में अदालत ने धर्मपाल और निर्मल को मौत की सजा सुनाई थी. निर्मल की सजा बाद में उम्र कैद में बदल दी गई थी. हालांकि वह भी पैरोल पर रिहा होने के बाद फरार हो गया और उसे 10 सालों के बाद गिरफ्तार किया जा सका था. इधर धर्मपाल ने 1999 में दया याचिका दायर की थी लेकिन उसकी याचिका खारिज कर दी गई. इसके बाद 2005 में उसने फिर से राष्ट्रपति के पास दया याचिका दायर की. जिसे अब जा कर राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने खारिज कर दी है. माना जा रहा है कि डेथ वारंट मिलते ही अंबाला जेल में उसे फांसी देने की प्रक्रिया पूरी कर दी जाएगी. उसके अलावा 5 अन्य मामलों में भी देश के अलग-अलग हिस्सों में हत्या के आरोपियों को फांसी की सजा दी जानी है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

ASHOK SHARMA [asharma2.modiarc@groupmkm.in] MODI NAGAR - 2013-04-05 05:05:49

 
  1991 में ही फांसी दे देनी थी, ताकि कई लोगों की जान बच जाती. 
   
 

tarun agarwal [style.taru@rediffmail.com] Mumbai - 2013-04-05 05:01:49

 
  i really appreciate the decision of the president. A strong law should be implemented against there crimes. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in