पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >बात Print | Share This  

काटजू ने बताया मीडिया को हनुमान

काटजू ने बताया मीडिया को हनुमान

हैदराबाद. 7 अप्रैल 2013

मार्कंडेय काटजू


अपने विवादास्पद बयानों के लिये सुर्खियों में रहने वाले प्रेस परिषद के अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि मीडिया में बहुत ताकत है और वह चाहे तो बहुत कुछ कर सकता है. उन्होंने कहा कि मीडिया हनुमान की तरह है.

अखिल भारतीय लघु और मध्यम अखबार फेडरेशन द्वारा आयोजित 'वर्तमान पत्रकारिता में अनैतिक प्रवृत्तियां' विषय पर बोलते हुये उन्होंने मीडिया को हनुमान बताते हुये कहा कि कोई ऐसी चीज नहीं है जो मीडिया नहीं कर सकता. मीडिया बहुत शक्तिशाली है. आप भारतीय जनता की सेवा के लिए है. यह मीडिया का धर्म है. मैं जामवंत की तरह हूं, जो आपको आपके कर्तव्य और अधिकार की याद दिलाता हूं.

जस्टिस काटजू ने कहा कि पत्रकारों के लिए न्यूनतम योग्यता का निर्धारण करने के लिए एक समिति नियुक्त करना जरुरी है, जिससे इस पेशे की गुणवत्ता बनी रहे. उन्होंने पत्रकारिता में भष्टाचार के मुद्दे पर कहा कि केवल पत्रकारों पर ही क्यों आरोप लगाया जाए. अनैतिक प्रवृत्तियां न केवल पत्रकारिता बल्कि हर क्षेत्र में है. पत्रकारों को बहुत कम तनख्वाह मिलती है. हर जगह भ्रष्टाचार है. ऐसे में मीडिया की भूमिका और बढ़ जाती है.

जस्टिस काटजू ने कहा कि भारत बदलाव के दौर से गुजर रहा है. जैसा 19 वीं शताब्दी में पश्चिमी यूरोप गुजर रहा था. अगले 15-20 साल भारत में मुश्किल भरे होने जा रहे हैं. भारतीय मीडिया को यूरोपीय मीडिया की भांति भूमिका निभानी चाहिए ताकि भारत आधुनिक और औद्योगिक समाज के रूप में तब्दील हो सके.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in