पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

गुलाम बना कर भारतीय महिला से रेप

गुलाम बना कर भारतीय महिला से रेप

लंदन. 21 अप्रैल 2013

बलात्कार


ब्रिटेन में एक भारतीय महिला को गुलाम बना कर बरसों से बलात्कार करने और उसका शोषण करने का मामला सामने आया है. भारत के विदेश मंत्रालय ने इस मामले में हस्तक्षेप करते हुये महिला की भारत वापसी सुनिश्चित किये जाने की बात कही है. 40 वर्षीय यह महिला हैदराबाद की रहने वाली है और 2005 से ही उसे लंदन में गुलाम की तरह रखा गया था.

अपनी तरह के इस भयावह शोषण के इस मामले में जो तथ्य सामने आये हैं, उसके मुताबिक लंदन के एक परिवार ने इस महिला को घरेलू काम में सहयोग के लिये रखा और उसके बाद उसका पासपोर्ट जब्त कर लिया. इसके बाद इस महिला को तीन परिवारों में इधर से उधर रखने, खाना-पीना नहीं देने और तीनों परिवारों में बलात्कार करने की बात सामने आई है.

बलात्कार की शिकार इस महिला ने कम से कम दर्जन बार पुलिस को शिकायत दर्ज की लेकिन ब्रिटेन की पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. यहां तक कि कुछ अवसरों पर मामले की जांच के लिये पढ़ी-लिखी और केवल तेलुगु जानने वाली इस महिला के लिये दुभाषिये का काम उन्हीं बलात्कारियों से लिया गया. उन बलात्कारियों ने अपने तरीके से पुलिस को महिला की शिकायत बताई, जिसरे गुनाहगार बचते रहे. अंततः एक महिला संगठन के हस्तक्षेप के बाद इस महिला को तीनों बलात्कारियों के नर्क से निकाला गया.

महिला और मानवाधिकार संगठन के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने कार्रवाई की. इस मामले के आरोपी ऑप्टीशियन बलराम ओबेराय और सेक्रेटरी यूसुफ को महिला के साथ मारपीट के लिए दोषी करार दिया गया. ओबेराय को जान से मारने की धमकी देने का भी दोषी पाया गया. वहीं एक अन्य आरोपी कसाई बालापोवी को दुष्कर्म का दोषी पाया गया. इन सबको अदालत द्वारा अगले महीने सजा सुनाई जाएगी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

samved [samvedtripathi@yahoo.com] pune - 2013-04-21 16:31:10

 
  ये एक अमानवीय कृत्य है इस पर भारत के विदेश मंत्रालय को आपत्ति दर्ज करानी चाहिए. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in