पहला पन्ना >राजनीति >अमरीका Print | Share This  

न्यूयॉर्क में भी होता ब्लास्ट

न्यूयॉर्क में भी होता ब्लास्ट

न्यूयॉर्क. 26 अप्रैल 2013

बॉस्टन ब्लास्ट


बोस्टन में ब्लास्ट करने वाले सारनाएफ़ भाइयों को अगर पकड़ा नहीं गया होता तो उनकी योजना न्यूयॉर्क के टाइम स्क्वायर पर हमला करने की थी. एक कार ड्राइवर के कारण दोनों भाइयों का राज खुल गया और एक मुठभेड़ में मारा गया व दूसरा पकड़ लिया गया. न्यूयॉर्क के मेयर माइकल ब्लूमबर्ग ने कहा है कि इस विस्फोट के मामले में जिंदा बचे ज़ोख़र सारनाएफ़ ने एफ़बीआई को बताया है कि उनका अगला निशाना न्यूयॉर्क का टाइम स्क्वायर था.

ब्लूमबर्ग के अनुसार उन्हें बताया गया कि ज़ोख़र और उनके भाई की योजना थी कि वो न्यूयॉर्क तक कार चला कर आयेंगे. उनकी योजना बॉस्टन में धमाके के बाद एक अगवा की गई कार से न्यूयॉर्क तक आने की थी.

न्यूयॉर्क के पुलिस कमिश्नर रेमंड कैली ने कहा कि 15 अप्रैल को विस्फोट करने के लिये दोनों भाइयों ने एक प्रेशर कुकर बम और 5 पाइप बम एकत्र किया था. जिसमें से प्रेशर कुकर बम और 2 पाइप बम का इस्तेमाल इन दोनों ने धमाकों के लिये किया. इसमें 3 लोग मारे गये थे. वे कार से न्यूयॉर्क आने वाले थे लेकिन कार में ईंधन कम था. जब वे एक पेट्रोल पंप पर रुके तो कार का ड्राइवर भाग निकला और उसने पुलिस को सूचना दी.

इसके बाद पुलिस ने उन्हें घेरा और मुठभेड़ में तामरलान सारनाएफ़ की मौत हो गई, जबकि ज़ोख़र को बाद में जिंदा पकड़ लिया गया. इधर तामरलान और ज़ोख़र सारनाएफ़ के पिता अंजोर सारनाएफ़ ने कहा कि अमरीका आ कर अपने बेटे का शव रुस ले जाएंगे.