पहला पन्ना > राजनीति > बात पते की Print | Send to Friend | Share This 

नेपाल में राजशाही का अंत नहीं-ज्ञानेंद्र

नेपाल में राजशाही का अंत नहीं-ज्ञानेंद्र

काठमांडू. 25 मार्च 2010


सत्येंद्र नेपाल के पूर्व नरेश ज्ञानेंद्र ने देश में सदियों पुराने राजतंत्र के एक बार फिर बहाल होने की उम्मीद जताई है. नेपाल के एक टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा है कि मेरे लिये आम जन की सुरक्षा की गारंटी सबसे महत्वपूर्ण है. मेरी इच्छा है देश के मौजूदा हालात में शांति देखना और मुझे आशा है कि आम जन की इच्छा जल्दी से जल्दी पूरी होगी.

नेपाल में माओवादियों द्वारा 2008 में अपदस्थ कर दिये गये पूर्व नरेश ज्ञानेंद्र ने राजशाही के अंत से इंकार करते हुए कहा कि राजशाही में उतार-चढ़ाव आथा है, लेकिन मैं वही करुंगा, जो जनता की इच्छा होगी.

पूर्व नरेश ने कहा कि मैंने बिना किसी विरोध के सिंहासन छोड़ दिया जिससे यह देश शांति और समृद्धि देख सके. मेरे पूर्वजों ने इस देश को एकजुट किया और मुझे उम्मीद है कि यह टूटेगा नहीं.