पहला पन्ना >कला >महाराष्ट्र Print | Share This  

गुलाबी गैंग के लिये सोनिया से प्रेरणा

गुलाबी गैंग के लिये सोनिया से प्रेरणा

मुंबई. 2 मई 2013

जूही चावला


फिल्म अभिनेत्री जूही चावला का मानना है कि किसी फिल्म में राजनेता की भूमिका करना चुनौतीपूर्ण कार्य है. ‘गुलाबी गैंग’ के पूरा होने पर जूही ने संतोष जाहिर करते हुये कहा कि इस फिल्म के लिये उन्होंने सोनिया गांधी, सुषमा स्वराज और ममता बनर्जी जैसी राजनेताओं से प्रेरणा ली. जूही ने उनका अवलोकन किया और उनका व्यवहार जानने का प्रयास किया क्योंकि यह काफी कठिन भूमिका थी.

जूही बताती हैं कि ‘गुलाबी गैंग’ फिल्म में माधुरी दीक्षित के साथ काम करना एक यादगार अनुभव था. ‘गुलाबी गैंग’ फिल्म की शूटिंग हाल ही में खत्म हुई है.

गौरतलब है कि बुंदेलखंड की गुलाबी गैंग को केंद्र में रख कर बनाई गई इस फिल्म को सौमिक सेन ने निर्देशित किया है. बांदा के इलाके में संपत पाल देवी के नेतृत्व में गुलाबी साड़ी पहनी महिलाओं ने अपनी सामाजिक सक्रियता बढ़ाते हुये कई परिवर्तनकारी काम किये हैं. गुलाबी साड़ी पहनने वाली इन महिलाओं ने महिलाओं के खिलाफ होने वाले अत्याचार के खिलाफ मार-कुटाई जैसे काम भी किये हैं.

इन महिलाओं पर अतंराष्ट्रीय संगठनों ने फिल्में बनाई हैं तो गार्जियन अखबार ने इस गुलाबी गैंग की लीडर संपत लाल को दुनिया की 100 परिवर्तनकारी महत्वपूर्ण महिलाओं की लिस्ट में शामिल किया है. इटली और फ्रांस तक में इस संगठन की शाखाएं बनी थीं.

इस गुलाबी गैंग को लेकर 45 वर्षीय पूर्व मिस इंडिया जूही चावला ने बताया कि ‘अर्जुन पंडित’ के बाद यह उनकी दूसरी नकारात्मक भूमिका वाली फिल्म है. यह भूमिका उनके लिये कठिन थी क्योंकि वास्तविक जीवन में वे इससे अलग हैं. उन्होंने माना कि फिल्म में माधुरी दीक्षित जैसी सधी हुई अभिनेत्री के साथ काम करना एक सुखद अनुभव था.

‘गुलाबी गैंग’ कब रिलीज होगी, इसकी तारीख तय नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि फिल्म अपने अलग कथानाक के कारण दर्शकों को सिनेमाघर तक खिचने में कामयाब होगी.