पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

भुल्लर की फांसी स्थगित करने पत्नी की याचिका

भुल्लर की फांसी स्थगित करने पत्नी की याचिका

नई दिल्ली. 7 मई 2013

देविंदर पाल सिंह भुल्लर


साल 1993 में बम धमाका कर 9 लोगों की हत्या करने के आरोपी देविंदर पाल सिंह भुल्लर की पत्नी नवनीत कौर ने उसे दी गई मृत्युदंड की सज़ा को स्थगित करने सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है. नवनीत कौर ने मंगलवार को उच्चतम न्यायालय में एक याचिका दायर कर भुल्लर की फांसी की सज़ा के अमल को तत्काल प्रभाव से स्थगित किए जाने की मांग की है.

अपनी याचिका में नवनीत कौर ने कहा है कि जब तक उच्चतम न्यायालय द्वारा दिए गए मृत्युदंड के फैसले के खिलाफ उसकी समीक्षा याचिका पर फैसला नहीं हो जाता तब तक उसके पति की मौत की सजा पर अमल को स्थगित रखा जाए.

उल्लेखनीय है कि देविंदर पाल सिंह भुल्लर को एम. एस. बिट्टा पर बम हमला करने में अहम भूमिका के लिए मौत की सजा दी गई थी. यह हमला भुल्लर ने 1993 में किया था. इसमें 9 पुलिस वाले मारे गए थे और 25 लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे. इन 25 घायलों में भुल्लर भी था. भुल्लर को मौत की सजा मिलने के बाद राष्ट्रपति ने दया याचिका 11 सालों तक लंबित रखी थी.

भुल्लर ने सुप्रीम कोर्ट में इस आधार पर याचिका दायर की थी वह 20 सालों तक कैद रहा, जो कि आजीवन कारावास की तरह है लेकिन उच्चतम न्यायालय ने उसकी अलग-अलग याचिकाओं को खारिज कर दिया था. अब भुल्लर की पत्नी नवनीत कौर ने उच्चतम न्यायालय के 12 अप्रैल के फैसले के खिलाफ समीक्षा याचिका दायर की है जिस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आना बाकी है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

cb srivastva [cbsrivastava09@gmail.com] Lucknow - 2013-05-07 11:26:54

 
  Hang immediately and close the chapter. Terrorist must not given any sympathy either by the Government, Hon\'ble Court & Society. Think of the families dying every day who lost their earning member , near & dears in bomb attacks. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in