पहला पन्ना >राजनीति >कर्नाटक Print | Share This  

बागी येदियुरप्पा के चलते हारी भाजपा

बागी येदियुरप्पा के चलते हारी भाजपा

बेंगलुरु. 8 मई 2013

येदियुरप्पा


अब जब ये लगभग तय हो गया है कि कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार बनेगी तो भाजपा ने आत्मचिंतन करते हुए स्वीकारा है कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के पार्टी छोड़ने से उसे भारी नुकसान हुआ है. हालांकि भाजपा ने यह भी कहा है कि येदियुरप्पा से दूरी बनाने के फैसले को जायज़ था क्योंकि उन पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप थे.

पार्टी महासचिव राजीव प्रताप रूडी ने कर्नाटक चुनावों के नतीजों के बारे में कहा है कि हम इस हार से स्तब्ध और नाखुश हैं. रुडी ने कहा कि इन चुनावों में कई ऐसे कारण थे जिनसे कार्यकर्ताओं का मनोबल प्रभावित हुआ और इसका खामियाज़ा हमें भुगतना पड़ा. उन्होंने यह भी कहा कि पार्टी हार के कारणों का विश्लेषण करेगी और पता लगाएगी कि ऐसा क्यों हुआ.

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक विधानसभा की 223 सीटों पर बुधवार सुबह शुरू हुई मतगणना के बाद ये स्पष्ट हो गया है कि कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार आएगी. ये परिणाम बिल्कुल वैसे हीं हैं जैसा एक्जिट पोल बता रहे थे. चुनाव से पहले राजनीतिक विशेषज्ञों का भी मानना था कि येदियुरप्पा का भाजपा से अलग होकर कर्नाटक जनता पार्टी (केजीपी) बनाना भाजपा के वोट काट सकता है और हुआ भी वैसा ही. भले ही येदियुरप्पा की केजीपी चुनावों में ज्यादा सीटें हासिल नहीं कर पाई हो लेकिन उसने भाजपा को राज्य में सरकार बनाने से निश्चित ही रोक दिया है.