पहला पन्ना >खेल >दिल्ली Print | Share This  

आईपीएल फिक्सिंग के बचाव में बीसीसीआई

आईपीएल फिक्सिंग के बचाव में बीसीसीआई

नई दिल्ली. 18 मई 2013

फिक्सिंग में श्रीसंत


आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में फंसे खिलाड़ियों का बीसीसीआई ने अप्रत्यक्ष रुप से बचाव किया है. बीसीसीआई के अध्यक्ष एन श्रीनिवासन ने कहा है कि केवल पुलिस के कहे पर भरोसा नहीं किया जा सकता. उन्होंने कहा कि हर कहानी के दो पहलू होते हैं. अब यह पुलिस को ही साबित करना है कि रॉजस्थान रॉयल्स के श्रीशांत, चंदीला और अंकित चव्हाण ने स्पॉट फिक्सिंग की है या नहीं. श्रीनिवासन ने एक तरह से तीनों खिलाड़ियों को बेकसूर बताने की कोशिश की है.

श्रीनिवासन ने एक अखबार से बातचीत में कहा कि भारत का कानून कहता है कि जब तक आप दोषी साबित न हो जाएं, तब तक आप बेगुनाह हैं. पुलिस ने उन्हें शक के आधार पर गिरफ्तार किया है। अब यह पुलिस की जिम्मेदारी है कि खिलाड़ियों पर लगे आरोपों को साबित करे. श्रीनिवासन ने कहा कि आज की तारीख में श्रीशांत और चंदीला के वकील स्पॉट फिक्सिंग से इंकार कर रहे हैं. ऐसे में उन्हों दोषी ठहराना सही नहीं है.

इधर श्रीशांत के वकील दीपक प्रकाश ने कहा है कि मीडिया में आई खबरें सही नहीं हैं. उन्होंने कहा कि जो भी सबूत दिल्ली पुलिस ने पेश किए हैं, वे कुछ भी साबित नहीं करते. उन्होंने सट्टेबाजों से न तो पैसा लिया है और न ही वह किसी सट्टेबाज के संपर्क में थे. जब वह बेकसूर हैं तो कुछ भी स्वीकार करने का सवाल ही पैदा नहीं होता. उन्होंने कहा कि श्रीशांत ने तमाम आरोपों से इंकार किया है और यह मामला अदालत में टिकेगा नहीं.