पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >खेल >राजस्थान Print | Share This  

राज कुंद्रा के ईमेल से राज खुले

राज कुंद्रा के ईमेल से राज खुले

नई दिल्ली. 7 जून 2012

राज कुंद्रा


राजस्थान रॉयल्स के मालिक ब्रिटिश नागरिक राज कुंद्रा को कभी भी अंदर किया जा सकता है. फिल्म अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा के खिलाफ पुलिस के पास पर्याप्त सबूत हैं. लेकिन इस विदेशी नागरिक की गिरफ्तारी से पहले पुलिस चाहती है कि पहले मामले के मुख्य आरोपियों को धरा जाये.

गौरतलब है कि राज कुंद्रा पिछले तीन सालों से सट्टेबाजी कर रहे थे. इस दौरान कुंद्रा ने करोडों में सट्टा लगाया. हालत ये थी कि सट्टेबाजी के शौकिन कुंद्रा चाहते थे कि टी-20 के मैच, मध्यपूर्व के देश में भी हों. उस समय के आईपीएल कमिश्नर ललित मोदी से सऊदी अरब में मैच कराने के लिये उन्होंने कई बार अनुरोध किया. सउदी अरब जैसे देश सट्टेबाजी के लिये कुख्यात हैं.

कुंद्रा ने 8 अप्रैल 2010 को ललित मोदी को मेल में लिखा था कि कि मैंने संयुक्त अरब अमीरात के खेल और शिक्षा मंत्री शेख नहयान से बैठक की है. उन्होंने मुझसे कहा है कि बीसीसीआई रहे या नहीं मिडल-ईस्ट खुद ही एक लीग आयोजित कराना चाहता है. उन्होंने स्टेडियम और इन्फ्रास्ट्रक्चर पर करोडों खर्च किए हैं. यदि हम इस मिडल-ईस्ट लीग को बीसीसीआई से नहीं जोड़ पाते हैं तो पाकिस्तान बीच में आ जाएंगा. पाकिस्तान के आने के बाद पूरा फाइनैंशल सिस्टम गड़बड़ा जाएगा और हमारे ब्रैंड को नुकसान पहुंचेगा.

पुलिस का कहना है कि अगर राज को गिरफ्तार किया जाएगा तो हमें ऐसी हजारों लोगों की गिरफ्तारियां करनी पड़ेंगी, जो इस तरह के सट्टेबाजी में लगे हुये हैं. हमारा ध्यान फिलहाल मुख्य अभियुक्तों पर है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in