पहला पन्ना >व्यापार >दिल्ली Print | Share This  

रैनबैक्सी की दवायें खतरनाक

रैनबैक्सी की दवायें खतरनाक

नई दिल्ली. 9 जून 2013

रैनबैक्सी


अगर आप भी रैनबैक्सी की दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको सावधान हो जाना चाहिये. अपोलो फार्मेसी ने मरीजों को इस बात के लिये चेतावनी जारी की है कि वह रैनबैक्सी की दवाओं से सतर्क रहें. अपोलो की इश चेतावनी के बाद रैनबैक्सी की दवाओं की गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो गये हैं. वहीं कुछ दवा कंपनियों का मानना है कि यह महज व्यवसायिक प्रतिद्वंद्विता से जुड़ा मामला है क्योंकि चेतावनी जारी करने के बाद भी अपोलो फार्मेसी आज की तारीख में भी रैनबैक्सी की दवायें बेच रही है.

गौरतलब है कि अपोलो फार्मेसी ने एक बयान में कहा था कि मेडिकल कमिटी द्वारा जताई गई चिंताओं के आधार पर रैनबैक्सी की दवाओं को लेकर सतर्कता की सलाह जारी की गई है. हम रैनबैक्सी की दवाओं से संबंधित सभी जरूरी प्रमाण पत्रों की जांच के लिए पिछले कई सप्ताह से रैनबैक्सी के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. प्रवक्ता के अनुसार अपोलो फिलहाल अपने 1500 दवा केंद्रों पर दवायें बेच रही है.

गौरतलब है कि रैनबैक्सी कंपनी ने हाल ही में अमरीका में यह स्वीकार किया है भारत में उसके दो कारखानों में दवाओं के सुरक्षित उत्पादन के लिए तय मानकों का उल्लंघन हुआ है. अमरीका को जो दवायें निर्यात की गई थीं, उन्हें अमरीका ने इस्तेमाल से मना कर दिया था. इसके बाद रैनबैक्सी ने माना था कि उसकी दवायें तय मानक के अनुसार नहीं बनी हैं. जाहिर है, जो दवा अमरीका के लोगों के लिये अच्छी नहीं हो सकती, वह दवायें भारत में बीमारों को ठीक कैसे कर सकती है?

इधर रैनबैक्सी की दवाओं को लेकर अमरीका में स्वीकरोक्ति के बाद देश के कई चिकित्सा संस्थाओं ने रैनबैक्सी की दवाओं का इस्तेमाल बंद कर दिया है. कई चिकित्सकों ने भी रैनबैक्सी के इस्तेमाल को प्रतिबंधित कर दिया है.