पहला पन्ना >राज्य >गुजरात Print | Share This  

इशरत जहां केस: पांडे की याचिका अस्वीकृत

इशरत जहां केस: पांडे की याचिका अस्वीकृत

नई दिल्ली. 28 मई 2013

Arushi Talwar


इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में सीबीआई ने विशेष अदालत से मांग की है कि गुजरात के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक पीपी पांडे को भगोड़ा घोषित किया जाए. इससे पहले उच्चतम न्यायालय में पांडे ने अपने खिलाफ विशेष अदालत द्वारा जारी गिरफ्तारी वारंट को रद्द करने की याचिका दायर की थी जिसे अस्वीकार कर दिया गया.

इसके अलावा उनके खिलाफ दर्ज की गई दूसरी प्राथमिकी को रद्द करने की याचिका भी उच्चतम न्यायालय ने ठुकरा दी. इस पर न्यायमूर्ति ज्ञान सुधा मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि किसी दंडाधिकारी द्वारा जारी गिरफ्तारी वारंट को चुनौती देने के लिए हाईकोर्ट गए बगैर कोई भी याचिकाकर्ता उच्चतम न्यायालय का दरवाजा नहीं खटखटा सकता.

गौरतलब है कि 15 जून 2004 को कॉलेज स्टूडेंट इशरत और उसके तीन दोस्तों जावेद गुलाम उर्फ प्रनेश कुमार पिल्लई, अमजद अली उर्फ राजकुमार अकबर अली राणा और जीशान जौहर अब्दुल गनी को पुलिस ने फर्जी मुठभेड में मार डाला था.

इस मामले में 1982 बैच के आईपीएस पी.पी.पांडे पर साथी पुलिसकर्मियों को इशरत के बारे में अहम खुफिया जानकारी देने का आरोप है. वो तब अहमदाबाद के संयुक्त पुलिस आयुक्त थे. मुठभेड़ करने वालों में शामिल तत्कालीन एसीपी जी.एस.सिंघल को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है.