पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

अलग हुए भाजपा-जदयू के रास्ते

अलग हुए भाजपा-जदयू के रास्ते

नई दिल्ली. 15 जून 2013

बाबूभाई बोखिरिया


जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने भाजपा से अपना 17 वर्ष पुराना गठबंधन तोड़ने की औपचारिक घोषणा कर दी है. रविवार को पटना में एक पत्रकार सम्मेलन आयोजित कर जदयू अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि उनकी पार्टी अब भाजपा नीत राष्ट्रीय गणतांत्रिक गठबंधन (राजग) का हिस्सा नहीं रहेगी.

गठबंधन तोड़ने के बारे में बोलते हुए जदयू के वरिष्ठ नेता और राजग के संयोजक शरद यादव ने कहा कि हम राजग में एक राष्ट्रीय एजेंडे को लेकर जुड़े थे और पिछले 17 सालों में तमाम उतार-चढ़ावों के बावजूद हमने इसे बनाए रखा. लेकिन अब एनडीए अपने राष्ट्रीय एजेंडे से भटक गया है तो ऐसी स्थिति में उनके साथ के बने रहना हमारे लिए मुनासिब नहीं होता.

नरेंद्र मोदी को भाजपा के चेहरा चुने जाने के बारे में शरद यादव ने कहा कि हमें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि भाजपा किसे क्या पद देती है. लेकिन उसके बाद के भाजपा नेताओं के गैर-जिम्मेदाराना भाषणबाजी असहनीय है और हमारे उसूलों पर चोट करने वाले हैं. ऐसे हालात में इस साथ से न भाजपा को फायदा होता न जदयू को तो फिर ऐसा गठबंधन टूटना ही बेहतर है.

मौके पर नीतीश कुमार ने भी कहा कि जदयू अपने बुनियादी सिद्धांतों से समझौता कर किसी गठबंधन में नहीं बनी रहेगी. उन्होंने यह भी कहा कि हम इस गठबंधन के टूटने के जिम्मेवार नहीं है और न ही इस गठबंधन के टूटने से जदयू को कोई फर्क पड़ने वाला है. बिहार के बारे में उन्होंने कहा कि यहां गठबंधन ठीक चल रहा था लेकिन बाहरी हस्तक्षेप के चलते उसमें भी दरार आई है.

गठबंधन तोड़ने की घोषणा करने के बाद विश्वास मत प्राप्त करने के लिए नीतीश कुमार ने 19 जून को बिहार विधानसभा में विशेष सत्र भी बुलाया है. बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के जादुई आंकड़े के लिए जेडीयू को 122 विधायक चाहिए जिसमें से 118 उसके पास हैं ही और बाकी के लिए उसकी नज़र राज्य के छह निर्दलीय विधायकों पर लगी हुई है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in