पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

आडवाणी नेता बने तो एनडीए में आएंगे-शरद

आडवाणी नेता बने तो एनडीए में आएंगे-शरद

पटना. 12 जून 2013

Nitish Kumar


भाजपा और एनडीए से रिश्ता तोड़ने वाले जदयू संयोजक शरद यादव ने कहा है कि अगर भाजपा की कमान लालकृष्ण आडवाणी को सौंप दी जाये तो उनकी पार्टी एक बार फिर से एनडीए में लौट सकती है. हालांकि उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ और कहने से इंकार कर दिया.

इधर नीतीश कुमार ने भाजपा के आरोपों पर सफाई देते हुये कहा है कि जिसने अपने पुरखों के साथ विश्‍वासघात किया हो, उसे ऐसी बातें कहने का कोई हक नहीं है. नीतीश कुमार ने कहा कि हम 17 साल पुराने गठबंधन को छोडना नहीं चाहते थे, यही कारण है कि हमने भाजपा के साथियों को बातचीत के लिए बुलाया, लेकिन वे नहीं आये.

हमने कैबिनेट की भी बैठक बुलाई, लेकिन वे यहां भी नहीं है, ऐसे में हमें गठबंधन से अलग होने का निर्णय लेना पड़ा. नीतीश ने कहा कि इसलिए विश्वासघात हमने नहीं किया, बल्कि भाजपा की ओर से किया गया है. उन्होंने कहा कि आज भाजपा की कार्यसंस्कृति बदल गयी है. वे अपने बुजुर्गों को भूल गये हैं.

नीतीश कुमार ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अटल-आडवाणी को भी भूल गयी है. जॉर्ज फर्नांडिस को भूलने की बात पर नीतीश ने कहा कि हम उनका हमेशा आदर करते हैं और करते रहेंगे. हम उन्हें भूले नहीं, बल्कि उनकी तबीयत खराब थी, जिसकी वजह से पार्टी से वे दूर हुए. नीतीश कुमार ने कहा कि भाजपा के नेताओं ने जिस तरह का व्यवहार किया, उसके बाद गठबंधन में रहना संभव नहीं था. नीतीश कुमार ने कहा कि हमने बहुत दुख और पीड़ा के साथ इस गठबंधन से बाहर आने का फैसला किया और यह मजबूरी में लिया गया फैसला है.