पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >बात Print | Share This  

बोल्ड और अंतरंग दृश्यों से भरी डेढ़ इश्किया

बोल्ड और अंतरंग दृश्यों से भरी डेढ़ इश्किया

मुंबई. 20 जून 2013

डेढ़ इश्किया


डेढ़ इश्किया फिल्म की खूबी क्या है ? इसका जवाब है माधुरी दीक्षित और नसिरुद्धीन शाह के बीच कुछ बोल्ड सीन. इसके अलावा हुमा कुरैशी और अरशद वारसी के बीच फिल्माया गये कुछ अंतरंग दृश्य. फिल्म के निर्देशक अभिषेक चौबे का कहना है कि इश्किया की तुलना में इस फिल्म में ऐसे-ऐसे दृश्य हैं कि दर्शक इश्किया को भील जाएंगे. लेकिन लाख टके का सवाल है कि क्या इस फिल्म की कुल जजमा खूबी क्या यही है?

इश्किया फिल्म का निर्देशन विशाल भारद्वाज ने किया था और विशाल ने अपनी तरह से फिल्म को निभाया भी. लेकिन फिल्म की चर्चा उसके अंतरंग दृश्यों के लिये नहीं, उसके कुल जमा संवाद, कहानी, फिल्मांकन और अभिनय को लेकर थी. इसके उलट अभिषेक चौबे अपनी फिल्म डेढ़ इश्किया में तो अपना रिकार्ड ही बोल्ड और अंतरंग पर अटकाये हुये हैं.

फिल्म के निर्देशक अभिषेक चौबे कहते हैं कि फिल्म डेढ़ इश्कियां में उन्होंने कुछ बेहद ही अतरंग दृश्य फिल्माये हैं। फिल्म में हुमा कुरैशी और अरशद वारसी के बीच तो सेक्स रिलेशन दिखाये ही गये हैं वहीं दूसरी ओर लीड रोल निभा रहे माधुरी दीक्षित औऱ नासिरूद्दीन शाह के बीच में भी काफी उत्तेजक दृश्यों को फिल्माया गया है क्योंकि यही पटकथा की मांग थीं। अभिषेक ने कहा कि पहले तो माधुरी इस बात के लिए तैयार नहीं थीं लेकिन बाद में उन्होंने कहानी की मांग समझीं और वह तैयार हो गयीं।

अभिषेक पूरी फिल्म की कहानी पर बात नहीं करते. उनका जोर इस बात पर नहीं है कि नसिरुद्दीन शाह जैसा महान अभिनेता के साथ काम करने का अनुभव कैसा है. वे यह भी बात नहीं करते कि फिल्मांकन को लेकर उनकी टीम का काम कैसा है. बस उनका जोर बोल्ड होने पर है. लेकिन भैया अभिषेक, अगर बोल्ड और सेक्स ही फिल्मों की महानता होती तो दुनिया की सारी पोर्न फिल्में महान हो जातीं. फिल्म को कला माध्यम की तरह देखने वाली आंख लाएं तो कुछ बात बने.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in