पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > न्यायपालिका Print | Send to Friend | Share This 

सुप्रीम कोर्ट के जजों द्वारा संपत्ति घोषित

सुप्रीम कोर्ट के जजों द्वारा संपत्ति घोषित

नई दिल्ली. 03 नवंबर 2009

 

सर्वोच्च न्यायालय के सभी न्यायाधीशों ने अपनी संपत्ति का ब्यौरा सोमवार को घोषित कर दिया. यह घोषणा सर्वोच्च न्यायालय की आधिकारिक वेबसाइट पर की गई. लंबे समय से न्यायपालिका पर दबाव बन रहा था कि जज अपनी संपत्ति सावर्जनिक करें. इससे न्यायपालिका में पारदर्शिता आएगी और भ्रष्टाचार पर भी लगाम लगी रहेगी. वेबसाइट के अनुसार जजों ने ये संपत्ति स्वैच्छिक आधार पर की है.

इस घोषणा के अनुसार मुख्य न्यायाधीश के जी बालकृष्णन तकरीबन 18.08 लाख रुपए की चल-अचल संपत्ति है. उल्लेखनीय है कि इससे पहले सूचना का अधिकार कानून पारित होने के बाद केंद्रीय सूचना आयोग ने जजों को अपनी संपत्ति का ब्यौरा देने को कहा था. लेकिन मुख्य न्यायाधीश के जी बालकृष्णन ने ऐसा करने से मना कर दिया था. इसके बाद मुद्दा दिल्ली उच्च न्यायालय में चला गया था जिसने केंद्रीय सूचना आयोग के आदेश को बहाल रखा और जजों को अपनी संपत्ति घोषित करने का आदेश दिया.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Jeetendra Ranchi

 
 It's good that supreme court judges have declared their actual assets. This is a nice step by those in judiciary 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in