पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

तोते का पिंजरा खुला

तोते का पिंजरा खुला

नई दिल्ली. 27 जून 2013

उद्धव ठाकरे


केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सीबीआई को स्वतंत्रता और स्वायत्ता प्रदान करने की ओर कदम बढ़ाते हुए मंत्रियों के समूह (जीओएम) की कई महत्वपूर्ण सिफारिशों को मान लिया है. बृहस्पतिवार को हुई चर्चा में गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे, कानून मंत्री कपिल सिब्बल, विदेश मंत्री सलमान खुर्शीद और कार्मिक राज्य मँत्री वी. नारायणसामी की सदस्यता वाले और वित्त मंत्री पी. चिंदबरम की अध्यक्षता वाले समूह की सिफारिशों पर चर्चा हुई जिसके बाद ये निर्णय लिया गया.

मंत्रियों के इस समूह को सीबीआई को स्वतंत्रता और वित्तीय स्वायत्ता प्रदान करने के बारे में सिफारिशों देने के लिए गठित किया गया था जिसने अपनी सिफारिशें सोमवार को ही तैयार कर ली थीं.

माना जा रहा है कि समूह ने केंद्रीय मंत्रिमंडल के सामने सिफारिश रखी थी कि सेवानृवित्त जजों का एक पैनल बनाया जाए जो सीबीआई द्वारा की जा रही जाँच पर नज़र रखे जिससे कि ये सुनिश्चित किया जा सके कि जाँच किसी भी प्रभाव से मुक्त रहे. मंत्रिमंडल द्वारा इस सिफारिश को मान लिया गया है. हालांकि ये दण्ड प्रक्रिया संहिता के अनुसार नहीं होगा क्योंकि इसके अनुसार अभी सीबीआई का जाँच अधिकारी अदालत को रिपोर्ट करता है और कोई अन्य उसकी जाँच में दखल नहीं डाल सकता है.

इसके अलावा मंत्री समूह की एक महत्वपूर्ण सिफारिश ये भी थी कि सीबीआई के निदेशक को अधिक वित्तीय स्वायत्ता दी जाए क्योंकि उन्हें धन की मंजूरी के लिए नौकरशाहों पर निर्भर होना पड़ता है. मंत्रिमंडल द्वारा इस सिफारिश को भी मान लिया गया है. सिफारिशों को मंत्रिमंडल की मंजूरी मिलने के बाद इस संबंध में एक हलफनामा सुप्रीम कोर्ट में दाखिल किया जाएगा जो 10 जुलाई को मामले की सुनवाई करेगा.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in