पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र >केरल Print | Share This  

सूर्यनेल्ली रेप केस में कुरियन को राहत

सूर्यनेल्ली रेप केस में कुरियन को राहत

कोच्चि. 29 जून 2013

पी जे कुरियन


सूर्यानेल्ली सामूहिक बलात्कार मामले में राज्यसभा के उपसभापति पी.जे. कुरियन को केरल की एक अदालत से बड़ी राहत मिली है. थोदुपुझा सेशन कोर्ट ने शनिवार को कुरियन को मामले में आरोपी बनाने के मांग वाली पुनर्विचार याचिका खारिज कर दी और मजिस्ट्रेट कोर्ट द्वारा पूर्व में दिए गए फैसले पर अपनी मुहर लगा दी.

इससे पहले मामले में दोषी साबित एकमात्र आरोपी धर्मराजन ने दावा किया था कि उसने कुरियन को एक कार में बैठाकर कुमिली के उस अतिथि गृह लेकर गया था जहां वह बलात्कार पीड़ित लड़की मौजूद थी. हालांकि बाद में वह अपने बयान से पलट गया था और उसने एक हलफनामा दिया था कि कुरियन से कभी नहीं मिला.

अदालत में सत्र न्यायाधीश अब्राहम मैथ्यू ने अपने आदेश में कहा कि सेक्स प्रकरण में कुरियन को शामिल करने की पीड़ित की याचिका में दम नहीं है इसी वजह से उनके खिलाफ दायर याचिका खारिज की जाती है.

उल्लेखनीय है कि केरल के इदुक्की जिले में 1996 में 16 वर्षीय किशोरी के साथ हुए सामूहिक बलात्कार का मामला सामने आया था. सूर्यनेल्ली रेप केस नाम से चर्चित इस मामले में ये तथ्य सामने आये थे कि एक बस कंडक्टर ने पीड़िता का अपहरण कर लिया और उसके साथ 45 दिनों तक 42 लोग दुष्कर्म करते रहे.

इन 42 लोगों में पीड़िता ने आज के राज्यसभा के उप सभापति पी जे कुरियन का भी नाम शामिल किया था. मामले में अदालत ने 35 लोगों को सजा सुनाई लेकिन बाद में धर्मराजन के अलावा सभी दूसरे लोगों को हाईकोर्ट ने बरी कर दिया.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in