पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

मैं हिंदू लेकिन कहते हैं डॉगविजय सिंह

मैं हिंदू लेकिन कहते हैं डॉगविजय सिंह

नई दिल्ली. 16 जुलाई 2013

दिग्विजय सिंह


दिग्विजय सिंह ने कहा है कि मैं हिंदू हूं लेकिन जो मैं कह रहा हूं वह संघी गैंग के बहरे कानों तक नहीं पहुंचेगा. अपने ब्लाग में दिग्विजय सिंह ने कहा है कि मैं उन भाग्यशाली लोगों में हूं जिन्हें सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा गालिया मिलती हैं. ये संघियों और मोदी द्वारा अहमदाबाद के पास मनिपुर सानंद में संस्कार धाम से हायर किए गए लोग हैं. ये गैंग जिनकी उम्र मेरे पोतों से कुछ ज्यादा ही होगी, मुझे कभी डॉगविजय सिंह तो कभी पिगविजय सिंह कहता है.

सिंह ने लिखा है कि कभी कहा जाता है कि मैंने इस्लाम अपना लिया है, तो कभी ईसाई धर्म. ये एक ऐसा झूठ है जिसे संघियों को प्रचारक की ट्रेनिंग के दौरान ही सिखाया जाता है. लेकिन मैं उन्हें या उनके परिवार को दोष नहीं देता. मैं दोष देता हूं संस्कार धाम और आरएसएस शाखा को. मैं सभी नियमों का पालन करने वाला हिंदू हूं. मुझे द्वारका के जगदगुरु शंकराचार्य से और 1983 में जोशीमठ में दीक्षा मिली. मैं 1969 से हर रोज आधे घंटे के प्रार्थना करता हूं जब से मुझे योग्या पवित संस्कार के बाद गायत्री मंत्र दिया गया.

कांग्रेस महासचिन ने लिखा है कि मध्य प्रदेश के गुना में राघोगढ़ के मेरे घर में 9 मंदिर हैं. हर रोज पूजा होती है. ये 14 पीढ़ियों से चला आ रहा है. इनमें से 4 मंदिरों में 24 घंटे ज्योति जलती रहती है. मैं हनुमान मंदिर में चल रही वेद पाठशाला ट्र्स्ट का चेयरमैन हूं. बकौल सिंह-मेरी मां बहुत धार्मिक थीं और हम सभी 5 भाई बहनों में धार्मिक गुण डाले. मैं हर एकादशी पर व्रत रखता हूं. मेरे घर पर एकादशी पर पूरी रात कीर्तन होता है. मैं हर डोल ग्यारस पर विमांस के साथ 3 किलोमीटर तक पैदल चलता हूं. इसके बावजूद बीजेपी और संघी मुझे एंटी हिंदू कहते हैं.

संघ पर निशाना साधते हुये दिग्विजय सिंह ने कहा कि संघ ब्रिगेड के उलट एक अच्छा हिंदू सभी धर्मों की इज्जत करेगा. मेरे गुरु शंकराचार्य जी हिंदुत्व को परिभाषित करने में नाकाम रहे. मुझे लगता है सबसे पहले हिंदुत्व शब्द का इस्तेमाल कट्टर आर्य समाजी वीर सावरकर ने किया. आर्य समाजियों की सनातन धर्म को लेकर कट्टरता सबको पता है. दिग्गी ने भाजपा को लेकर कहा कि बीजेपी का हिंदुत्व से कुछ लेना देना नहीं है. उसका मकसद भोले भाले हिंदुओं को ठगना है. एक हिंदू के तौर पर मेरा कर्तव्य है कि संघियों और उनके द्वारा पोषित प्रोफेशनल्स द्वारा मुस्लिमों, ईसाइयों और दूसरे अल्पसंख्यकों के खिलाफ फैलाए जा रहे झूठ का पर्दाफाश करूं.

दिग्विजय सिंह ने अपने ब्लॉग में कहा है कि मैं जानता हूं कि जो मैं कह रहा हूं वो संघियों द्वारा प्रेरित संघी गैंग के बहरे कानों तक नहीं पहुंचेगा, लेकिन ये मेरा फर्ज है. अगर आपको मेरी बातों पर भरोसा नहीं है तो राघोगढ़ में मेरे घर पर मेहमान बनकर आएं, आपका स्वागत है. ये भोपाल से 3 किलोमीटर दूर है. मुझे उम्मीद है कि जिन्हें संघ ने झूठे प्रचार से बरगलाया है वो मुझे समझने की कोशिश करेंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in