पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

दूरसंचार में सौ फीसदी एफडीआई

दूरसंचार में सौ फीसदी एफडीआई

नई दिल्ली. 16 जुलाई 2013

एफडीआई


प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की कैबिनेट के साथ एक अहम बैठक के बाद कई क्षेत्रों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) बढ़ाने का फैसला लिया गया है. अब रक्षा क्षेत्र में एफडीआई की सीमा 26 फीसदी से बढ़ाकर 49 फीसदी कर दी गई है जबकि टेलीकॉम क्षेत्र में इसे 74 फीसदी से बढ़ाकर 100 फीसदी कर दिया गया है.

बताया जा रहा है कि रक्षा क्षेत्र में बढ़ा विदेशी निवेश कई शर्तों के अधीन ही स्वीकृत किया जाएगा और हर एक प्रस्ताव को पहले रक्षा क्षेत्र से जुड़ी कैबिनेट कमिटी जाँचेगी परखेगी.

गौरतलब है कि इससे पहले रक्षा क्षेत्र में एफडीआई बढ़ाने के फैसला का रक्षामंत्री ए के एंटनी ने यह कह कर विरोध किया था कि इससे विदेशी कंपनियों पर निर्भरता बढ़ेगी और घरेलू रक्षा उद्योग की वृद्धि प्रभावित होगी लेकिन उनकी सिफारिशों को नहीं माना गया है.

इन क्षेत्रों के अलावा एफडीआई सीमा बीमा क्षेत्र में 26 फीसदी से बढ़ाकर 49 फीसदी कर दी गई है. इसके साथ ही गैस रिफाइनरीज, कमोडिटी एक्सचेंज और पावर ट्रेडिंग-स्टॉक एक्सचेंज में फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) के जरिए एफडीआई को मंजूरी दी गई है.

माना जा रहा है कि रुपए की लगातार गिरती साख के चलते सरकार देश में ज्यादा से ज्यादा विदेशी निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए केंद्र सरकार के यह फैसले लिए हैं.