पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

चुनाव हुये तो मोदी सबसे आगे

चुनाव हुये तो मोदी सबसे आगे

नई दिल्ली. 30 जुलाई 2013

नरेंद्र मोदी


मनमोहन सिंह एक बार फिर से केंद्र में सरकार बनाने के रास्ते में ज़रुर खड़े हैं लेकिन एक ताजा सर्वे में कहा गया है कि अगर मौजूदा हालात में लोकसभा के चुनाव होंगे तो भारतीय जनता पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभर सकती है. हालांकि भारतीय जनता पार्टी को 150 सीटें भी नहीं मिल पाएंगी. मतलब ये कि नरेंद्र मोदी के लिये दिल्ली दूर ही रहेगी.

लोकसभा चुनाव को लेकर टाइम्स नाउ इंडिया टीवी सी वोटर सर्वे के अनुसार भाजपा को पिछली बार की 116 सीटों के मुकाबले 131 सीटें मिलेंगी. एनडीए के दलों की सीटें जोड़ ली जाएं तो आंकड़ा 156 पर पहुंचता है। कांग्रेस की हालत इससे भी बुरी रहने वाली है। 2009 में 206 सीटें पाने वाली कांग्रेस को इस बार महज 119 सीटें मिलेंगी जबकि वर्तमान यूपीए की सीटें जोड़ी जाएं तो आंकड़ा 136 तक पहुंचेगा। 2009 में यूपीए की सीटों की संख्या 228 थी।

इस सर्वे में कहा गया है कि ताजा चुनाव में तीसरे मोर्चे के दलों को 129 सीटें मिलने वाली हैं, जबकि इसके अलावा चौथे मोर्चे को 122 सीटें मिल सकती हैं.

इस सर्वे के अनुसार आंध्र प्रदेश में पिछले चुनाव में कांग्रेस को 33 सीटें मिली थीं लेकिन इस बार कांग्रेस यहां केवल 7 सीटें पाएगी. इसके उलट जगनमोहन रेड्डी की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस को सीटें मिलेंगी. हालांकि भाजपा को यहां एक भी सीट नहीं मिलेगी. बिहार में जदयू को पिछली बार की 20 सीटों के मुकाबले 11 सीटें ही मिलेंगी, जबकि भाजपा के लिये 12 के बजाये 14 सीटें मिलने का दावा किया जा रहा है. छत्तीसगढ़ में भाजपा 11 में से 10 सीटें लेकर गई थी लेकिन ताजा चुनाव में उसे केवल 7 सीटें ही मिलेंगी. दिल्ली में कांग्रेस की 7 सीटें थीं, जो घटकर एक पर आ जाएगी. गुजरात में भी कांग्रेस पार्टी 11 सीटों से घट कर 5 पर आ जाएगी, जबकि भाजपा को 15 के बजाये 21 सीटें मिलेंगी.

इस सर्वे में दावा किया गया है कि उत्तरप्रदेश में सपा को 33, बसपा को 27, कांग्रेस को 5 और भाजपा को 12 सीटें मिलेंगी. अभी इनके पास क्रमश: 23, 20, 21 और 10 सीटे हैं. उत्तराखंड में कांग्रेस को 3 और भाजपा को 2 सीटें हासिल होंगी. बंगाल में ममता बनर्जी की टीएमसी को 22 सीटें मिलेंगी तो वाम दलों को 17 सीटों पर संतोष करना पड़ेगा. कांग्रेस पार्टी को केवल 4 सीटें मिलेंगी. भाजपा की एक सीट तृणमूल के खाते में जाएगी. हरियाणा में कांग्रेस को 9 के मुकाबले इस बार 6 सीटें बी मिलेंगी, जबकि भाजपा को 2 सीटों पर अपना खाता खोलने का लाभ मिलेगा. झारखंड में कांग्रेस को 4 सीटें मिलेंगी, जबकि भाजपा को 8 के मुकाबले इस बार 3 सीटों पर संतोष करना पड़ेगा.

ताजा सर्वे पर यकीन करें तो कर्नाटक में भाजपा 19 के मुकाबले 8 पर आ जाएगी, वहीं कांग्रेस 6 से बढ़ कर 17 पर पहुंच जाएगी. इसकी तरह केरल में कांग्रेस 13 के बजाये 4 सीटों पर सिमट सकती है तो वाम दलों को 4 के बजाये 13 सीटें हासिल हो सकती हैं. मध्यप्रदेश में कांग्रेस की 12 और भाजपा को 16 सीटें मिलने का अनुमान है. महाराष्ट्र में कांग्रेस को 17 के बजाये 11 सीटें और एनसीपी को 8 के बजाये 6 सीटों पर संतोष करना पड़ेगा. यहां भाजपा को 11 तो शिवसेना को 15 सीटें मिलने का अनुमान है. मनसे को भी 3 सीटें मिल सकती हैं. राजस्थान में कांग्रेस को 20 के बजाये 9 पर संतोष करना पड़ेगा तो भाजपा को 4 के बजाये 15 सीटों पर विजय हासिल होने का अनुमान लगाया गया है. तमिलनाडु में एआईएडीएमके को 20 सीटों का लाभ होगा, अभी उसके पास 9 सीटें हैं. डीएमके 18 से घट कर 9 पर और कांग्रेस 8 से घट कर 1 पर पहुंच जाएगी. ओडीशा में कांग्रेस को 2 सीटों का लाभ होगा और वह 8 सीटों पर पहुंचेगी, वहीं बीजेडी 12 पर आ जाएगी. पंजाब में कांग्रेस को 4 सीटों का नुकसान होगा और वह 4 पर रहेगी, वहीं भाजपा को 7 सीटें मिलने का अनुमान है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in