पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

बटला हाउस: शहजाद अहमद को उम्रकैद

बटला हाउस: शहजाद अहमद को उम्र कैद

नई दिल्ली. 30 जुलाई 2013

बटला हाउस एनकाउंटर


बटला हाउस एनकाउंटर मामले में दिल्ली के साकेत कोर्ट ने दोषी करार दिए गए शहजाद अहमद को उम्रकैद और 50 हज़ार रुपए जुर्माने की सज़ा सुनाई है. मामले पर फैसला सोमवार को ही सुनाया जाना था लेकिन कोर्ट ने अभियोजन व बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद फैसला मंगलवार तक सुरक्षित रख लिया था.

सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष ने अदालत में सुप्रीम कोर्ट के फैसलों का उदाहरण देते हुए शहजाद के लिए फांसी की मांग रखी थी लेकिन अदालत ने उसके कृत्य को रेयरेस्ट ऑफ रेयर मानने से इंकार कर दिया. इसके अलावा उसने शहजाद के दो अन्य मामलों (बम धमाकों) से जुड़े होने की दलील को भी नहीं माना.

इससे पहले 25 जुलाई को मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने एनकाउंटर को फर्जी नहीं बताते हुए शहजाद अहमद को दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा की हत्या और दो कांन्सटेबलों की हत्या की कोशिश का दोषी माना था. उस समय अदालत ने शहजाद को आईपीसी की धारा 302, 307, 353, 186, 333, 34 और आर्म्स एक्ट के तहत दोषी करार दिया था.

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस ने 19 सितंबर 2008 को जामिया नगर स्थित बटला हाउस इलाके में हुई मुठभेड़ की थी जिसमें उसने कथित तौर पर इंडियन मुजाहिदीन के दो चरमपंथियों को मारने का दावा किया था और कहा था कि मुठभेड़ के दौरान दो कथित चरमपंथी भागने में सफल रहे थे जिनमें से एक शहज़ाद को बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते ने गिरफ़्तार किया था.

दिल्ली पुलिस के आरोप पत्र के मुताबिक़ शहज़ाद अहमद और उनके साथियों ने 13 सितंबर 2008 को दिल्ली में हुए सिलसिलेवार धमाकों की साज़िश रची थी. इस एनकाउंटर के दौरान दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा को गोली लग गई थी और बाद में उनकी मृत्यु हो गई थी.