पहला पन्ना > राष्ट्र > न्यायपालिका Print | Send to Friend | Share This 

नेट से समन और कंप्यूटर पर मुकदमें

नेट से समन और कंप्यूटर पर मुकदमें

नई दिल्ली. 28 नवंबर 2009


अगले महीने से दिल्ली उच्च न्यायालय का समन अगर नेट से मिलने लगे तो चौंकियेगा मत. अगर सब कुछ ठीकठाक रहा तो 8 दिसंबर से दिल्ली उच्च न्यायालय की ई-कोर्ट शुरु हो जाएगी और बिना कागज-कलम के मुकदमों की पैरवी, निपटारे हो सकेंगे. फाईलें सीडी में बदल जाएंगी और रसीदें मेल खोलते ही मिल जाएंगी. कोशिश की जा रही है कि अदालत के अधिकांश काम काज कंप्यूटर से और वो भी ऑनलाईन शुरु किये जा सकें.

ई-कोर्ट की जानकारी देते हुए जस्टिस बीडी अहमद ने कहा कि अदालत के तमाम दस्तावेज डिजिटल फॉम में तब्दील किए जाएंगे. अभी तक साढ़े 5 करोड़ दस्तावेज डिजीटल फॉम में तब्दील किए जा चुके हैं. मुद्दई को याचिका सीडी के मार्फत दाखिल करनी होगी. गवाहों के बयानों की भी वीडियो क्लीपिंग बनाई जाएगी. पहले-पहल इस तकनीक के तहत एक सिविल कोर्ट में सुनवाई शुरू की जा रही है.

इस मौके पर जस्टिस एस.मुरलीधरन ने जानकारी देते हुए कहा कि हर जानकारी दिल्ली हाईकोर्ट की बेवसाइट पर उपलब्ध होगी. देश के किसी भी कोने में बैठा याचिकाकर्ता नेट के मार्फत दिल्ली हाईकोर्ट में अपनी याचिका दायर कर सकेगा.