पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

दुर्गा में प्रशासनिक सूझबूझ की कमी

दुर्गा में प्रशासनिक सूझबूझ की कमी

लखनऊ. 5 अगस्त 2013

दुर्गा शक्ति नागपाल


आईएएस दुर्गा शक्ति नागपाल को निलंबित करने वाली समाजवादी पार्टी की सरकार ने 10 पन्नों का आरोपपत्र थमाते हुये आरोप लगाया है कि दुर्गा ने 27 जुलाई को एक मस्जिद की दीवार गिराने का आदेश देकर सांप्रदायिक सदभाव को खतरे में डाल दिया था. 28 वर्षीय दुर्गा को सौंपे गये इस आरोप पत्र में दुर्गा के निर्णय को प्रशासनिक सूझबूझ के अभाव वाला बताया है.

दुर्गा नागपाल को सौंपे आरोप पत्र में कहा गया है कि रमजान के महीने में, जब सांप्रदायिक भावना काफी ज्यादा होती है, ऐसे में दुर्गा शक्ति नागपाल ने मस्जिद की दीवार को गिराने का आदेश दिया. नागपाल का निर्णय गलत समय लिया गया और इसमें दूरदृष्टि का अभाव था. दुर्गा शक्ति ने यह दिखाया है कि उसमें प्रशासनिक सूझबूझ की कमी है.

अपने आरोपपत्र में सरकार ने कहा है कि होना यह चाहिए था कि दुर्गा शक्ति को मस्जिद का निर्माण रुकवाना चाहिए था, ईद के त्योहार का इंतजार करना चाहिए था और फिर यह तय करना चाहिए था कि दीवार गिरानी है या नहीं. इसके अलावा दुर्गा के खिलाफ जमीन विवाद से संबंधित शिकायतों की जांच भी करने की बात कही है.