पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >खेल > Print | Share This  

आईपीएल फिक्सिंग दाऊद के निर्देश पर

आईपीएल फिक्सिंग दाऊद के निर्देश पर

नई दिल्ली. 6 अगस्त 2013

दाउद इब्राहिम


दिल्ली पुलिस का कहना है कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के छठे संस्करण में स्पॉट फिक्सिंग में त्रीस्तरीय सट्टेबाजी गिरोह संलिप्त था, जिसका प्रमुख सरगना कराची में बैठा अंडरवर्ल्ड माफिया दाऊद इब्राहिम और उसका सहयोगी छोटा शकील है. आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग की तीन महीने से की जा रही जांच में ये बातें सामने आई हैं. दिल्ली पुलिस ने 30 जुलाई को दिल्ली स्थित मकोका न्यायालय में अपना आरोपपत्र दाखिल कर दिया है.

दिल्ली पुलिस द्वारा मामले में दाखिल आरोपपत्र के दस्तावेज के अनुसार, देश से बाहर स्थित दाऊद, शकील और जावेद चुटानी के अलावा इस गिरोह का पहला स्तर भारतीय सट्टेबाजों का है. ये सट्टेबाज हैं- अश्विनी अग्रवाल उर्फ टिंकू मैंडी, रमेश व्यास, फिरोज जितेंद्र जैन और चंद्रेश जैन उर्फ ज्यूपिटर. गिरोह के दूसरे स्तर में सुनील भाटिया चंद्रेश पटेल और मनन भट्ट नाम के भारतीय सट्टेबाज शामिल हैं

गिरोह के तीसरे स्तर के बारे में आरोपपत्र में कहा गया है, "हमने जांच में पूर्व खिलाड़ियों मनीष गुड्डेवर, अमित कुमार सिंह और बाबूराव यादव जैसे सट्टेबाजों और उनके सहयोगियों के ऐसे समूह के बारे में पता चला है, जो सट्टेबाजों को खिलाड़ियों से संपर्क स्थापित करने की सुविधा मुहैया कराते थे."

गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग में संलिप्तता के आरोप में राजस्थान रायल्स के तीन खिलाड़ियों एस. श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंदीला को 16 मई कोई मुम्बई के एक होटल से गिरफ्तार किया था. इसके साथ-साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों से 27 सट्टेबाजों को भी गिरफ्तार किया गया है.

दिल्ली पुलिस ने अपने आरोपपत्र में कहा है कि विदेश स्थित फोन नंबरों को ट्रेस करना अमूमन संभव नहीं है. लेकिन इस मामले में दिल्ली पुलिस, अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ की सहायता से किसी प्रकार चुटानी द्वारा दुबई के नंबर से पाकिस्तान स्थित दाऊद के नंबर पर किए गए कॉल को ट्रेस करने में कामयाब रहे.

दोनों के बीच हुई बातचीत से पता चला कि चुटानी भारत में मैंडी के संपर्क में था. चुटानी भारत में वांछित नहीं है, इसलिए चुटानी द्वारा भारत में किसी से की गई बातचीत पर अमूमन संदेह के घेरे में नहीं आती, जिसका फायदा उठाकर चुटानी आराम से मैंडी से बातचीत करता था. दूसरी तरफ चुटानी के निर्देश पर मैंडी उत्तरी भारत में सट्टेबाजी गिरोह का संचालन करता था.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in