पहला पन्ना >राज्य >उ.प्र. Print | Share This  

फेसबुक टिप्पणी पर दलित लेखक गिरफ्तार

फेसबुक टिप्पणी पर दलित लेखक गिरफ्तार

लखनऊ. 6 अगस्त 2013

फेसबुक


आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल मुद्दे पर सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक पर टिप्पणी किया जाना अखिलेश सरकार को इतना अखर गया कि उन्होंने टिप्पणीकार को ही गिरफ्तार करवा दिया हालांकि बाद में उन्हें जमानत भी मिल गई. दरअसल बहुचर्चित दलित लेखक कंवल भारती ने मंगलवार को अखिलेश सरकार की निंदा करते हुए फेसबुक पर टिप्पणी लिखी थी कि दुर्गा और आरक्षण, दोनों मामलों में अखिलेश सरकार फेल रही है.

इस टिप्पणी से बौखलाई अखिलेश सरकार में संसदीय कार्य एवं नगर विकास मंत्री मोहम्मद आजम खां के मीडिया प्रभारी फसाहत अली खां शानू ने सिविल लाइंस थाने में मुकदमा दर्ज कराया जिसके बाद पुलिस ने कंवल भारती को रामपुर से गिरफ्तार कर लिया. शिकायत में कहा गया था कि भारती ने सांप्रदायिक उन्माद फैलाने और मुस्लिम समाज की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के उद्देश्य से फेसबुक पर टिप्पणी की है जिससे सांप्रदायिक सौहार्द खराब होने का खतरा है.

कंवल भारती की इस टिप्पणी पर दर्ज कराया गया मामला- 'उत्तर प्रदेश में सपा सरकार ने नोएडा में आइएएस अफसर दुर्गाशक्ति नागपाल को निलंबित कर दिया, क्योंकि उन्होंने रमजान माह में एक मस्जिद का निर्माण गिरवा दिया. यह निर्माण अवैध रूप से सरकारी जमीन पर हो रहा था. लेकिन, रामपुर में रमजान माह में जिला प्रशासन ने सालों पुराने इस्लामिक मदरसे को बुलडोजर चलवाकर गिरवा दिया. विरोध करने पर मदरसा संचालक को जेल भिजवा दिया. इस मामले में अखिलेश सरकार ने अभी तक किसी अफसर को निलंबित नहीं किया. ऐसा इसलिए नहीं किया गया, क्योंकि यहां अखिलेश का नहीं आजम खां राज चलता है. उनको रोकने की मजाल तो खुदा में भी नहीं है.'

कंवल भारती को गिरफ्तार किए जाने के बाद पहले ही दुर्गा मामले पर चौतरफा आलोचना झेल रही अखिलेश यादव सरकार की सोशल मीडिया पर लेखकों और चिंतकों ने काफी आलोचना की. सैंकडों लोगों ने फेसबुक पर उनकी टिप्पणी को उनके समर्थन में शेयर किया.

जमानत पर छूटने के बाद भारती ने कहा कि उन्होंने किसी धर्म के खिलाफ टिप्पणी नहीं की थी और यदि लोकतंत्र में अगर आम इंसान अपनी बात नहीं कह सकता तो सरकार को चाहिए कि फेसबुक के खिलाफ या फिर आदमी के बोलने के खिलाफ भी कानून बना दे.