पहला पन्ना >राज्य >हरियाणा Print | Share This  

अनुमान के आधार पर कार्यवाही नहीं की: खेमका

अनुमान के आधार पर कार्यवाही नहीं की: खेमका

नई दिल्ली. 18 अगस्त 2013

ashok khemka


राबर्ट वाड्रा और डीएलएफ के बीच 58 करोड़ रुपये मूल्य की विवादास्पद जमीन सौदे को खारिज करके सुर्खियों में आए आईएएस अधिकारी अशोक खेमका ने कहा कि उनका कार्य अनुमान पर आधारित नहीं था और एक जांच के माध्यम से मामले की सारी सच्चाई सामने आ सकती थी. एक निजी समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में खेमका ने जमीन के सौदे को रद्द करने के अपने फैसले को जायज ठहराया.

इस मामले के सामने आने के बाद पिछले वर्ष 11 अक्टूबर को महानिदेशक (लैंड होल्डिंग्स एंड कंसालिडेशन) के पद से उनका तबादला कर दिया गया.

खेमका ने कहा कि जब आप किसी पद पर होते हैं तो अपना कर्तव्य पूरा करते हैं. इसमें कोई भी निजी हित नहीं है. उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट हास्पिटैलिटी ने इस सौदे से 42.6 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया.

यह पूछे जाने पर कि क्या उनका कार्य संदेह पर आधारित था, खेमका ने कहा कि वहां पर गलत काम होने का अनुमान था. खेमका ने कहा, "यह एक संदेह नहीं था. वहां गलत काम होने की काफी अधिक संभावना थी."

एक सवाल के जवाब में खेमका ने कहा कि राबर्ट वाड्रा और डीएलएफ के बीच सौदा पूरी तरह अनुपयुक्त था. वाड्रा ने एक कालोनी बनाने के लाइसेंस के साथ जमीन 7.5 करोड़ रुपये में खरीदी थी और उसी जमीन को डीएलएफ को 58 करोड़ रुपये में बेच दिया.