पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

आसाराम की जमानत याचिका खारिज

आसाराम की जमानत याचिका खारिज

जोधपुर. 4 सितंबर 2013

आसाराम बापू


जोधपुर की एक अदालत ने नाबालिग लड़की से यौन शोषण के आरोप में गिरफ्तार कथावाचक आसाराम की जमानत याचिका खारिज कर दी है. इससे पहले जोधपुर जिला अदालत और सत्र न्यायाधीश (ग्रामीण) ने आसाराम को 15 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में रखे जाने का आदेश दिया था. माना जा रहा है कि गैर-जमानती धाराएं लगी होने की वजह से यह याचिका खारिज कर दी गई है.

आसाराम के वकील के.के. मनन ने कहा, "अदालत ने दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया है." माना जा रहा है कि इस फैसले के खिलाफ आसाराम हाईकोर्ट में अपील कर सकते हैं, हालांकि कानूनी जानकारों के अनुसार इस प्रक्रिया में कम से कम चार-पाँच दिन लग सकते हैं.

बुधवार को जोधपुर जिला अदालत और सत्र न्यायाधीश मनोज व्यास की अदालत में हुई सुनवाई के दौरान अभियोजन पक्ष के वकील आनंद पुरोहित ने यह खुलासा किया कि जोधपुर के डीसीपी अजयपाल सिंह लांबा को धमकीभरा खत मिला है. साथ ही जोधपुर की पुलिस कमीश्नर और मामले की जाँच अधिकारी चंचल मिश्रा ने भी कहा है कि आसाराम के समर्थक की ओर से उन्हें घूस की पेशकश की गई.

इसके अलावा आसाराम के वकील द्वारा घटना के कुछ दिन बाद पुलिस में शिकायत दर्ज कराए जाने को लेकर पूछे गए सवाल पर अभियोजन पक्ष के वकील ने कहा कि लड़की सदमें में थी और शिकायत दर्ज कराने के लिए उसे साहस जुटाने में समय लगा.

न्यायालय में पेश की गई याचिका में आसाराम के वकील ने यह कहा था कि जोधपुर पुलिस ने उनके खिलाफ गैर-जमानती धारा लगाने में भूल की है, लेकिन उनकी इस आपत्ति को कोर्ट ने खारिज कर दिया.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in