पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

गीतिका सुसाइड केस में कांडा को जमानत

गीतिका सुसाइड केस में कांडा को जमानत

नई दिल्ली. 5 सितंबर 2013

गोपाल कांडा


विमान परिचारिक रही गीतिका शर्मा को आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में तिहाड़ जेल में बंद गोपाल कांडा को अंतरिम जमानत मिल गई है. हरियाणा के पूर्व राज्यमंत्री रहे गोपाल कांडा को दिल्ली की एक अदालत ने विधानसभा सत्र में शामिल होने के लिए चार अक्टूबर तक जमानत दे दी है. कांडा पिछले लगभग 13 महीने से जेल में थे.

गुरुवार को मामले की सुनवाई अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश एम.सी.गुप्ता की अदालत में हुई जिसमें कांडा के वकील ने कहा कि चूंकि कांडा हरियाणा के सिरसा विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं इसीलिए उन्हें जनता के प्रति कई जिम्मेदारियां निभानी होती हैं इसीलिए उन्हें जमानत दे दी जाए.

वकील का तर्क था कि कांडा के अपने क्षेत्र में मौजूद न होने से उनके विधानसभा क्षेत्र की निधि का भी उपयोग नहीं हुआ है जिस वजह से जनता परेशान है. वहीं मामले में अभियोजन पक्ष दिल्ली पुलिस ने अंतरिम जमानत का विरोध करते हुए कहा कि इस बात की आशंका है कि कांडा अपनी राजनीतिक पहुँच का इस्तेमाल कर साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं.

दिल्ली पुलिस ने कहा कि फरवरी में भी हरियाणा विधानसभा का सत्र हुआ था लेकिन कांडा ने तब जमानत की जरूरत क्यों नहीं महसूस की थी. अभियोजन ने बताया कि मामले में अभी तक आठ गवाहों ने गवाही दी है और उनमें से अधिकांश कांडा के पूर्व या वर्तमान कर्मचारी हैं.

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद न्यायालय ने कांडा को पांच लाख रुपये का निजी बांड और उतनी ही राशि की जमानत पेश करने को कहा और उन्हें चार अक्टूबर तक जमानत दे दी है.

उल्लेखनीय है कि गोपाल कांडा और उसकी सहायक अरुणा चड्ढा पर पूर्व विमान परिचारिका को गीतिका शर्मा (23) को आत्महत्या के लिए विवश करने का आरोप है. इस मामले में अरुणा चड्ढा को हाल ही में जमानत मिल गई है.