पहला पन्ना > राजनीति Print | Send to Friend | Share This 

तेलंगाना राज्य के लिए केंद्र सहमत

तेलंगाना राज्य के लिए केंद्र सहमत

नई दिल्ली. 10 दिसंबर 2009


कई उच्चस्तरीय बैठकों के बाद यूपीए सरकार ने बुधवार रात तेलंगाना को देश के 29वें राज्य के रूप में मान्यता देने की घोषणा कर दी. गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने इस मुद्दे पर पत्रकारों से कहा कि अलग तेलगांना राज्य के गठन के लिए प्रस्ताव शीघ्र ही आंध्र प्रदेश विधानसभा में पेश किया जाएगा. गृहमंत्री चिदंबरम ने यह भी कहा कि उन्होंने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के रोसैया को 29 नवंबर, 2009 के बाद तेंलंगाना राज्य के आंदोलनकरियों और छात्रों के ख़िलाफ़ दर्ज सभी मुक़दमे वापस लेने के लिए कहा गया है.

तेलंगाना को अलग राज्य के रूप में मान्यता मिल जाने की घोषणा के साथ ही हैदराबाद के निज़ाम इंस्टीट्यूट में भर्ती तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के शीर्ष नेता चंद्रशेखर राव ने पिछले 11 दिनों से चल रहा अपना आमरण अनशन तोड़ दिया है. इस घोषणा से टीआरएस के नेताओं और इस आंदोलन का समर्थन कर रहे छात्रों में खुशी की लहर दौड़ गई है. टीआरएस नेताओं ने पत्रकारों से कहा है कि ये तेलंगाना के लोगों की जीत है.

इधर पृथ्क तेलंगाना राज्य की घोषणा के साथ ही कई विरोध के स्वर भी उठ खड़े हुए हैं. इस फैसले के विरोध में राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस के 42 विधायकों और दो सांसदों, तेलुगुदेशम पार्टी के 42 और प्रजाराज्य पार्टी के 11 विधायकों ने अपना इस्तीफा दे दिया है. सबसे ज्यादा मुश्किल कांग्रेस के लिए है क्योंकि इस मुद्दे पर राज्य में पार्टी के नेता दो फाड़ हो गए हैं. इस सब के बीच राज्य में गंभीर राजनीतिक अस्थिरता का माहौल है.