पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

दिल्ली गैंगरेप आरोपियों को फांसी

दिल्ली गैंगरेप आरोपियों को फांसी

नई दिल्ली. 13 अगस्त 2013

दिल्ली गैंगरेप


दिल्ली गैंगरेप मामले में साकेत फास्ट ट्रैक कोर्ट ने चार आरोपियों मुकेश, विनय शर्मा, पवन गुप्ता और अक्षय ठाकुर को फांसी की सज़ा सुनाई है. इन दोषियों को 11 धाराओं के तहत सजा सुनाई गई है, हालांकि फांसी की सज़ा को अधिकतम सजा होने की वजह से लागू किया जाएगा. सज़ा सुनाते वक्त जज ने इसे "रेयरेस्ट ऑफ रेयर" गुनाह माना और कहा कि इस अपराध ने समाज को झंझोड़ कर रख दिया.

इससे पहले मामले की सुनवाई 10 सितंबर यानी गत बुधवार को हुई थी जब न्यायालय ने बचाव और अभियोजन पक्षों की दलीलें सुनने के बाद इन चारों आरोपियों को हत्या और गैंग रेप समेत आईपीसी की 11 धाराओं के तहत दोषी करार दिया गया था. इन धाराओँ में सामूहिक बलात्कार के अलावा हत्या, अपहरण, डकैती, अप्राकृतिक सेक्स और आपराधिक साजिश मुख्य थीं.

बुधवार की सुनवाई के दौरान एडिशनल सेशन जज योगेश खन्ना ने कहा था कि दोषियों ने सोची-समझी साजिश के तहत इस गैंगरेप को अंजाम दिया. इन्होंने उस लड़की की हत्या की, जिसके पास बचने का कोई उपाय नहीं था. ये लोग निर्मम हत्या के लिए दोषी करार दिए जाते हैं

गौरतलब है कि 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली के मुनिरका इलाके में एक चलती बस में 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के साथ चलती बस छह आरोपियों ने गैंगरेप किया था. इस दौरान छात्रा और उसके साथी को मारा पीटा गया और दोनों को चलती बस से नीचे फेंक दिया था. जिसके बाद लड़की का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज चल रहा था. बाद में बेहतर इलाज के लिए उसे 26 दिसंबर को सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल भेजा गया, जहां उसकी मृत्यु हो गई थी.

इस जघन्य रेपकांड के एक आरोपी राम सिंह ने दिल्ली की तिहाड़ जेल में आत्महत्या कर ली थी जबकि एक दूसरे नाबालिग आरोपी को हाल ही में जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने हत्या और गैंग रेप समेत आईपीसी की तमाम धाराओं के तहत दोषी मानते हुए अधिकतम तीन साल के लिए सुधार गृह भेज दिया था.

लड़की के साथ हुये गैंगरेप को लेकर पूरे देश भर में कई दिनों तक विरोध प्रदर्शन हुये थे. इस दौरान देश भर से रेप के खिलाफ कड़ा कानून बनाने और दोषियों को सख्त से सख्त सज़ा देने की मांग की गई थी जिसके बाद केंद्र सरकार ने एंटी रेप कानून भी बनाया था.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in