पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

मुजफ्फरनगर पहुँचे अखिलेश का विरोध

मुजफ्फरनगर पहुँचे अखिलेश का विरोध

लखनऊ. 15 अगस्त 2013

अखिलेश यादव


हिंसा प्रभावित मुजफ्फरनगर का दौरा करने पहुँचे उत्तर पदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लोगों के जोरदार विरोध का सामना करना पड़ा है. रविवार को अखिलेश अपने सरकारी कुनबे के साथ मुजफ्फरनगर और शामली जिलों में पीड़ितों का हाल चाल जानने पहुँचे थे लेकिन उन्हें दंगों से व्यथित लोगों का गुस्सा झेलना पड़ा. हिंसा की चपेट में सबसे पहले आए कवाल गांव में कुछ लोगों ने अखिलेश के खिलाफ नारेबाजी की और उन्हें काले झंडे भी दिखाए.

कवाल वही गांव है जहां एक युवती के साथ छेड़छाड़ की घटना के बाद तनाव की शुरुआत हुई थी और फिर बाद में महापंचायत होने के बाद तनाव बढ़ गया था. कवाल के दौरे के दौरान कई लोगों ने न सिर्फ अखिलेश के खिलाफ बल्कि आजम खान के समर्थन में नारे भी लगाए.

मुजफ्फरनगर में लोगों ने मुख्यमंत्री से मांग की कि इलाके के पूर्व एसएसपी सुभाष दुबे की भूमिका की जांच की जाए. इस पर सरकार ने एसएसपी सुभाष दुबे को सस्पेंड करके उनपर विभागीय जांच बिठा दी है.

मुजफ्फरनगर में अखिलेश ने एक प्रेस कांफ्रेस भी आयोजित की और कहा कि राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है जिसका वितरण शुरू भी कर दिया गया है. उस दौरान उन्होंने मृतकों के परिवारों के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी देने का वायदा भी किया. मुजफ्फरनगर के बाद अखिलेश जिले के शाहपुर, मीरपुर और कोतवाली इलाकों में भी गए.

जफ्फरनगर के बाद पास के जिले शामली के कांधला में भी दंगा पीड़ितों से मुलाकात करने पहुंचे अखिलेश को यहां भी जोरदार विरोध का सामना करना पड़ा. मुजफ्फरनगर और शामली दोनों जिलों में लोगों का कहना था कि अखिलेश तब लोगों से मिलने आ रहे हैं जब उनका सबकुछ लुट चुका है जो कि यह दर्शाता है कि उन्हें दंगा पीड़ितों की असल में कितनी चिंता है.