पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

मेडिकल सीट घोटाले में सांसद दोषी करार

मेडिकल सीट घोटाले में सांसद दोषी करार

नई दिल्ली. 19 सितंबर 2013

रशीद मसूद


कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रशीद मसूद को एमबीबीएस सीट आबंटन मामले में सीबीआई विशेष कोर्ट द्वारा दोषी करार दिया गया है. मामला केंद्रीय पूल से त्रिपुरा को आवंटित एमबीबीएस सीटों पर अयोग्य उम्मीदवारों के नामांकन कराए जाने का है जो कि 1990-91 के शिक्षण सत्र का है जब मसूद स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के पद पर आसीन थे.

गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान विशेष सीबीआई जज जेपीएस मलिक ने मामले में मसूद के अलावा दो शीर्ष नौकरशाहों समेत अन्य लोगों को एमबीबीएस के लिए त्रिपुरा को आबंटित सीटों पर अपात्र उम्मीदवारों को नामांकित करने का दोषी ठहराया. अदालत ने वर्ष 1996 में सीबीआई द्वारा दर्ज एक जैसे 11 मामलों में यह फैसला सुनाया.इन मामलों में से तीन में सीबीआई ने मसूद को दोषी बनाया था.

इस मामले में आरोपपत्र दाखिल करते हुए सीबीआई ने कहा था कि चूंकि त्रिपुरा में अपना कोई मेडिकल कॉलेज नहीं है इसीलिए हर साल वहां के छात्रों के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा मेडिकल कॉलेजों में नामांकन के लिए केंद्रीय पूल से कुछ एमबीबीएस एवं बीडीएस की सीटें आवंटित की जाती हैं. इन छात्रों को त्रिपुरा सरकार मेधा सूची के आधार पर सीटें आबंटित करती है.

मामले में सीबीआई ने आरोप लगाया था कि 1990-91 में राज्य के तत्कालीन आवासीय आयुक्त गुरदयाल सिंह ने एमबीबीएस सीटों के कुछ नाम भेजे. इसके अलावा सिंह और मसूद ने मिलकर पात्र उम्मीदवारों के साथ वैसे भी कुछ उम्मीदवारों को सीटें आवंटित कर दी जिन्होंने परीक्षा पास नहीं की थी.

सीबीआई का आरोप था कि मसूद और गुरुदयाल सिंह ने आपराधिक साजिश के तहत अपात्र छात्रों को त्रिपुरा से नामांकित करवाया.
 


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in