पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

दुर्गा शक्ति के खिलाफ जांच रहेगी जारी

दुर्गा शक्ति के खिलाफ जांच रहेगी जारी

मुंबई. 23 सितंबर 2013

दुर्गा शक्ति नागपाल


दुर्गा शक्ति नागपाल की भले वापसी हो गई हो, उनके खिलाफ चल रही जांच की कार्रवाई जारी रहेगी. प्रशासनिक महकमे के सूत्रों की मानें तो मुख्यमंत्री अखिलेश सिंह ने दो दिन पहले दुर्गा को भले बहाल कर दिया हो लेकिन उन्होंने साफ कर दिया है कि दुर्गा के खिलाफ चल रही जांच को बंद नहीं किया जायेगा.

गौरतलब है कि नोएडा की उपजिलाधिकारी (सदर) रहीं दुर्गा शक्ति नागपाल को गौतम बुद्ध नगर जिले के कदाल गांव में एक निर्माणाधीन मस्जिद की दीवार गिराने के कारण विगत 27 जुलाई को राज्य सरकार ने निलंबित कर दिया था. निर्माणाधीन मस्जिद की दीवार सार्वजनिक भूमि पर बनाई जा रही थी जिस वजह से इसे गिराने के आदेश दिए गए थे. इसके बाद कई हलकों में यह चर्चा भी रही कि दुर्गा का निलंबन रेत खनन माफियाओं के खिलाफ की गई कार्रवाई की वजह से हुआ.

सरकार की तरफ से निलंबन के पीछे तर्क दिया गया था कि दुर्गा ने नोएडा में निर्माणाधीन मस्जिद की दीवार गिरवाई थी जिसके चलते वहां पर सांप्रदायिक तनाव फैलने की आशंका फैल गई थी.

इस मामले में समाजवादी पार्टी के नोएडा से लोकसभा उम्मीदवार नरेंद्र सिंह भाटी द्वारा एक जनसभा में यह कहा गया था कि उन्होंने 40 मिनट के अंदर नागपाल का निलंबन कराया. उनके इस बयान का वीडियो सामने आने के बाद राज्य सरकार की फजीहत हुई थी. दुर्गा के निलंबन की व्यापक निंदा हुई थी लेकिन सरकार ने अपने कदम को जायज ठहराते हुए 4 अगस्त को उन्हें आरोप पत्र थमा दिया था. इसके बाद से ही उनके खिलाफ जांच चल रही है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

krishna singh [kknsingh_1963@rediffmail.com] ambjkapur - 2013-09-25 04:25:16

 
  जाँच मामले का होना चाहिए. पक्ष- विपक्ष दोनों तरफ के आरोपों को जांचा जाए मान.सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन और उल्लंघन के सांप्रदायिक तनाव का मामला बीच में लाना उपयुक्त नही है.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in