पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >उ.प्र. Print | Share This  

मेरठ महापंचायत में हिंसा, कई घायल

मेरठ महापंचायत में हिंसा, कई घायल

मेरठ. 29 अगस्त 2013

पुलिस लाठाचार्ज


मुजफ्फरनगर दंगों के दौरान भड़काऊ भाषण देने के आरोपी भाजपा विधायक संगीत सोम की गिरफ्तारी और उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगाए जाने के विरोध में आयोजित महापंचायत के दौरान जमकर हंगामा हुआ. इस दौरान उग्र भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया और कई वाहनों में तोड़फोड़ की. स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और हवा में गोलियां चलाई जिसमें कई लोगों के घायल होने की खबर है. .

सूत्रों के मुताबिक इस दौरान एक व्यक्ति के मारे जाने और तीन चार पुलिसकर्मियों के घायल होने की खबर है. हालांकि अभी तक इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है. इस घटना से पूरे इलाके में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है.

जिला प्रशासन की रोक के बावजूद ठाकुर चौबीसी और कुछ हिंदू संगठनों द्वारा सरदना के खेड़ा गांव में आहूत की गई इस महापंचायत में खेड़ा और आस-पास के करीब चार हजार लोग इसके लिए एकत्र हुए थे. इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं भी मौजूद थीं. संगीत सोम सरदना से विधायक हैं.

महापंचायत के दौरान भीड़ बेकाबू हो गई और भीड़ ने पुलिस पर पथराव कर दिया और पुलिस की कई गाड़ियों में तोड़फोड़ कर आगजनी की. पुलिस ने उग्र भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया. पुलिस की तरफ से हवा में गोलिया चलाई गईं और आंसू गैस के गोले छोड़े गए.

खबर है कि मौके पर तैनात अर्धसैनिक बल और पुलिस के जवानों ने भीड़ को पंचायत स्थल से खदेड़ दिया है, लेकिन लोग आस-पास के गावों में झुंड में मौजूद हैं.

मेरठ के जिलाधिकारी रनदीप रिनवा और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार सहित जिले के सभी वरिष्ठ पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद हैं. कोई भी पुलिस अधिकारी घटना को लेकर मीडिया से बात नहीं कर रहा है. सवाल उठ रहा है कि प्रशासनिक रोक लगाए जाने और खेड़ा गांव व आस-पास में 32 कंपनी अर्धसैनिक बल और भारी पुलिस बल की तैनाती के बावजूद इतनी बड़ी संख्या में भीड़ वहां कैसे पहुंच गई.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in