पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > मुद्दा > पश्चिम बंगाल Print | Send to Friend | Share This 

सिंगूर की जमीन लौटाएगा टाटा

सिंगूर की जमीन लौटाएगा टाटा

नई दिल्ली. 16 दिसंबर 2009


पश्चिम बंगाल के उद्योग मंत्री निरुपम सेन ने कहा है कि टाटा समूह ने अर्थपूर्ण बातचीत होने पर सिंगूर में नैनो परियोजना के लिए आबंटित की गई जमीन लौटाने की बात कही है.

उल्लेखनीय है कि बंगाल सरकार ने टाटा मोटर्स को नैनो कार परियोजना के लिए सिंगूर में 997 एकड जमीन दी थी. कंपनी को ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस के विरोध के बाद इस परियोजना को छोडना पडा था. तृणमूल कांग्रेस की मांग थी कि टाटा को आवंटित 400 एकड जमीन किसानों को वापस कर दी जाए.

पत्रकारों से बातचीत में पश्चिम बंगाल के उद्योग मंत्री के ने कहा कि टाटा को यह सूचना दे दी गई है कि रेलवे सिंगूर में अंतरराष्ट्रीय स्तर का एक रेल कोच कारखाना लगाना चाहता है. इससे पहले टाटा सन्स के अघ्यक्ष रतन टाटा ने कहा था कि समूह पश्चिम बंगाल में सिंगूर की जमीन वापस करने को तैयार है, बशर्ते राज्य सरकार वहां हुए निवेश का मुआवजा दे दे.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

PRAVIN PATEL (tribalwelfare@gmail.com) BILASPUR

 
 उल्टा चोर कोतवाल को डांटे is what the Ratan Tata does with the government of West Bengal.

It is known to all that farmers were not interested to give any land to Tatas but police cracked upon those villagers to forcibly snatch their land and gave it to Tata.

Now when Tata puts in condition to vacate the land, Why the Budhu babu is hesitating to order his brave police to enter house of Tatas and treat in similar way the way they have dealt with farmers. Let them lathi charge Tata officials, let them burst tear gas shells and even if that does not work, fire live bullets as has been fired on innocent tribals at Kalinga Nagar.

There can not be two different yard sticks to measure similar type of work.

PRAVIN PATEL
 
   
[an error occurred while processing this directive]
 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in