पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

चारा घोटाले में लालू को पाँच साल जेल

चारा घोटाले में लालू को पाँच साल जेल

रांची. 3 अक्टूबर 2013

लालू यादव


चारा घोटाले से जुडे एक मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को पाँच साल कैद एवं 25 लाख जुर्माने की सज़ा सुनाई गई है. मंगलवार को सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू के अलावा मामले में अन्य आरोपियों बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र को चार साल कैद और दो लाख जुर्माना, जगदीश शर्मा को चार साल कैद और पाँच लाख जुर्माना और आरके राणा को पांच साल कैद की सज़ा सुनाई.

इन सभी के अलावा तीन आईएएस अधिकारी, एक आईआरएस अधिकारी, घोटाले से संबंधित पशुपालन विभाग के आठ अधिकारी, एक कोषागार पदाधिकारी और 20 सप्लायरों को भी सज़ा सुनाई गई है.

इससे पहले बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले से जुड़े इस मामले में गत 30 सितंबर को लालू यादव, जगन्नाथ मिश्रा और 43 अन्य को दोषी ठहराया गया था जिनमें से आठ को उसी दिन तीन-तीन साल सश्रम कारावास और 50 हजार से पांच लाख रुपये तक के जुर्माने की सज़ा दी गई थी.

इन सभी पर अविभाजित बिहार के चाईबासा स्थित ट्रेजरी से 37.70 करोड़ रुपये अवैध रूप से निकालने के आरोप सिद्ध हुए थे. दोषी ठहराए जाने के बाद से लालू रांची की बिरसा मुंडा जेल में बंद है.

गुरुवार को हुई सुनवाई में लालू के वकील ने सीबीआई की विशेष अदालत से लालू की बीमारी, उम्र और रेल मंत्री रहते हुए उनके द्वारा रेलवे को घाटे से उबारने का हवाला देते हुए सजा में नरमी बरतने की अपील की. हालांकि सीबीआई के वकील ने यह कहते हुए अधिकतम सजा की मांग की कि इससे भ्रष्टाचारियों को सबक मिलेगा.

सजा की घोषणा के साथ ही लालू प्रसाद की लोकसभा सदस्यता सर्वोच्च न्यायालय के दागी नेताओं से संबंधित हालिया फैसले के तहत चली जाएगी. लालू के वकील ने कहा है कि वे दशहरे की छुट्टियों के बाद इस फैसले के खिलाफ अपील करेंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in