पहला पन्ना >राजनीति >राजस्थान Print | Share This  

आसाराम की न्यायिक हिरासत बढ़ी

आसाराम की न्यायिक हिरासत बढ़ी

जोधपुर. 11 अक्टूबर 2013

आसाराम बापू


नाबालिग के यौन शोषण के मामले में फंसे आसाराम की न्यायिक हिरासत 25 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई है. उनके मामले में अब 25 अक्टूबर के बाद सुनवाई होगी. आसाराम ने राजस्थान हाईकोर्ट में सूरत में दर्ज हुए रेप केस की एफआईआर रद्द कराने की याचिका दायर की थी. याचिका में कहा गया है कि साजिश और लोकप्रियता पाने के लिये यह रिपोर्ट दर्ज कराई गई है. आसाराम ने इसी आधार पर रिहाई की भी मांग की थी.

गौरतलब है कि 74 साल के संत आसाराम पर 16 साल की बच्ची ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. दिल्ली के कमला मार्केट थाने ने मेडिकल जांच के बाद आसाराम के खिलाफ दुष्कर्म की धारा 376 में केस दर्ज कर लिया है. मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा आश्रम में पढऩे वाली यह बच्ची पिता के साथ 19 अगस्त को दिल्ली पहुंची और एफआईआर लिखाई. बच्ची ने बताया आसाराम ने 15 अगस्त को जोधपुर के मणाई आश्रम में बंधक बनाकर गलत काम किया.

16 साल की इस बच्ची ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि मैं बापू के छिंदवाड़ा स्थित गुरुकुल में रहती हूं. वहीं अगस्त के पहले हफ्ते में मेरी तबीयत खराब हो गई. माता-पिता को भी इसकी सूचना दे दी गई. वे छिंदवाड़ा पहुंचे तो उन्हें बताया गया कि तबीयत थोड़ी ठीक है. लेकिन झाडफ़ूंक की जरूरत है, जो बापू खुद करेंगे. वे अभी जोधपुर में हैं, इसलिए आप जोधपुर चले जाएं.

यौन शोषण की पीड़िता इस बच्ची ने कहा है कि 15 अगस्त को हम जोधपुर पहुंचे. आसाराम ने मेरे माता-पिता को कहा कि मुझे आश्रम में छोड़ दें. अनुष्ठान की जरूरत है. उसी रात आसाराम मुझे अलग कमरे में ले गए और मेरे साथ गलत काम किया. फिर जान से मारने की धमकी भी दी. अगले दिन मुझे छिंदवाड़ा जाने को कहा. लेकिन मैं माता-पिता के साथ शाहजहांपुर चली गई.

बच्ची ने आरोप लगाया है कि मैं डरी हुई थी, इसलिए घर पहुंचकर माता-पिता को पूरा वाकया बताया. वहां से हम दिल्ली पहुंचे. क्योंकि दिल्ली के रामलीला मैदान में 18 से 20 अगस्त के बीच सत्संग होने वाला था. लेकिन हमें किसी ने बापू से मिलने ही नहीं दिया. फिर 19 अगस्त को हम मैदान से सटे कमला मार्केट थाने पहुंचे. पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. उसी दिन मेडिकल जांच हुई. गलत काम आसाराम ने ही किया है. चाहें तो कोई भी जांच करा लें.

इस मामले में गिरफ्तारी के बाद आसाराम के खिलाफ यौन शोषण के कुछ और मामले सामने आये हैं. ऐसे में माना जा रहा है कि आसाराम के खिलाफ कम से कम यौन शोषण की शुरुआती याचिका तो खारिज होने से रही.