पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

रामदेव सीबीआई से न घबरायें

रामदेव सीबीआई से न घबरायें

नई दिल्ली. 15 अक्टूबर 2013

बाबा रामदेव


रामदेव को सेक्स,ड्रग्स और मर्डर में फंसाने का कांग्रेस ने इंकार किया है. कांग्रेस नेता और सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा है कि हमारी सरकार प्रतिशोध या प्रताड़ना के सिद्धांत में विश्वास नहीं करती. बाबा रामदेव ने अगर कुछ गलत नहीं किया होगा तो उनके खिलाफ कार्रवाई का सवाल ही पैदा नहीं होता. उन्होंने कहा कि सीबीआई सामान्य पूछताछ कर रही है और उस पर सरकार का कोई दबाव नहीं है.

गौरतलब है कि बाबा रामदेव के गुरु शंकरदेव के लापता होने के मामले में उनसे एक बार फिर पूछताछ शुरु हो सकती है. 2007 में शंकरदेव हरिद्वार स्थित आश्रम से संदिग्ध तरीके से लापता हो गये थे. तब से अब तक उनका पता नहीं चल सका है.

कई बार आरोप लगा है कि रामदेव ने ही अपने गुरु को गायब कराया. आरोप है कि बाबा रामदेव से उनके गुरु और दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट के संस्थापक शंकरदेव नाराज थे. खास तौर पर रामदेव के व्यवसाय को लेकर शंकरदेव दुखी थे.

इधर बाबा रामदेव ने कहा है कि अगर सरकार मेरे गुरु शंकरदेव के मामले में जांच कराना चाहती है तो वे नारको टेस्ट कराने के लिये तैयार हैं. रामदेव ने आरोप लगाया कि कांग्रेस के लोग उन्हें सेक्स, ड्रग्स और मर्डर के मामले फंसाना चाहते हैं.

रामदेव ने आरोप लगाया कि मैं सोनिया, राहुल और कांग्रेस के खिलाफ बोलता हूं इसलिए वे मुझे फंसाना चाहते हैं. कांग्रेस के बड़े नेता और मंत्री मुझे सीबीआई का भय दिखाते हैं. चार केंद्रीय मंत्रियों ने मुझे जेल भिजवाने की धमकी दी है. सरकार अपनी एंजेंसियों के जरिए मेरी छवि खराब करने में लगी है. अब मनीष तिवारी ने इस मामले में सरकार की स्थिति स्पष्ट करते हुये रामदेव के आरोप से इंकार किया है.