पहला पन्ना >राष्ट्र > Print | Share This  

कोयला घोटाले में मनमोहन हों आरोपी

कोयला घोटाले में मनमोहन हों आरोपी

नई दिल्ली. 16 अक्टूबर 2013

मनमोहन सिंह


कोयला घोटाले में फंसे पूर्व कोयला सचिव पीसी पारेख ने अब प्रधानमँत्री मनमोहन सिंह को कटघरे में खड़ा किया है. पारेख ने कहा है कि अगर सीबीआई को कोयला आबंटन में कोई साजिश दिखती है तो वो पहले पीएम को इसका पहला आरोपी बनाए, क्योंकि उन्होंने ही इस फैसले पर हस्ताक्षर किए थे. उनका कहना है कि सीबीआई जनहित में लिए गए सही और गलत फैसलों में फर्क नहीं कर पा रही है.

एक न्यूज चैनल में दिए इंटरव्यू में पारेख ने कहा कि हिंडाल्को को तालाबीरा के कोयला ब्लॉक आबंटन किया जाना सीबीआई तो साजिश लगती है तो इसके कई साजिशकर्ता हो सकते हैं, जिसमें कुमारमंगलम बिड़ला, वे और स्वयं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह शामिल हैं. वह कहते हैं कि यदि सीबीआई बिड़ला और उन्हें कटघरे में खड़ा कर रही है तो पीएम को क्यों छोड़ रही है.

इस मामले में उनके द्वारा लिए गए फैसलों पर उठ रहे सवालों पर आश्चर्य जताते हुए पारेख ने कहा, 'यह अजीब है कि सीबीआई मेरे उन फैसलों पर सवाल उठा रही है, जो कोयला सेक्टर में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से लिए गए थे'.

उल्लेखनीय है कि मंगलवार को सीबीआई ने कोयला घोटाले में दायर चार्जशीट में आदित्य बिड़ला ग्रुप के कुमारमंगलम बिड़ला के साथ साथ 2005 में कोयला सचिव नियुक्त किए गए पीसी पारेख का नाम भी शामिल किया था. इसके साथ ही सीबीआई ने नाल्को, हिंडाल्को समेत 14 एफआईआर दर्ज की थी. हिंडाल्को बिड़ला समूह की ही कंपनी है.