पहला पन्ना >कला > Print | Share This  

गायक मन्ना डे नहीं रहे

गायक मन्ना डे नहीं रहे

बेंगलुरु. 24 अक्टूबर 2013

मन्ना डे


मशहूर गायक मन्ना डे का निधन गुरुवार को बेंगालुरु के एक निजी अस्पताल में हो गया. 94 वर्ष के मन्ना डे को जुलाई महीने में छाती में संक्रमण के कारण बेंगलुरु के नारायणा हृदयालय अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां पिछले कुछ दिनों से उनकी हालत बेहद गंभीर बनी हुई थी. गुरुवार सुबह 3 बजकर 50 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली.

मन्ना डे के परिवार में उनकी दो पुत्रियां रमा और सुमिता हैं. अंतिम समय पर उनकी बड़ी बेटी और उनके दामाद उनके साथ थे. उनकी दूसरी पुत्री अमरीका में रहती है. मन्ना डे के निधन के बारे में बात करते हुए उनके दामाद ज्ञानरंजन देव ने बताया कि मन्ना डे के पार्थिव शरीर को यहां स्थित रविन्द्र कलाक्षेत्र में रखा जाएगा ताकि लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे सकें. उन्होंने कहा कि मन्ना डे का अंतिम संस्कार गुरुवार दोपहर किया जाएगा.

कोलकाता में वर्ष 1919 में जन्मे मन्ना डे ने 1942 की फिल्म तमन्ना से अपने करियर की शुरुआत की. इसके बाद उन्होंने अलग-अलग भाषाओं में चार हज़ार से अधिक गानों को अपनी आवाज़ दी. मन्ना डे ने सभी संगीतकारों के लिये कभी शास्त्रीय, कभी रूमानी, कभी हल्के फुल्के, कभी भजन तो कभी पाश्चात्य धुनों वाले गाने भी गाए. इसी खूबी के लिए उन्हें हिंदी जगत के हरफनमौला गायकों में गिना जाता है.

मन्ना डे को संगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया. उन्हें 1971 में पद्मश्री और 2005 में पद्म विभूषण से नवाजा गया था. साल 2007 में उन्हें प्रतिष्ठित दादा साहब फाल्के अवार्ड प्रदान किया गया.