पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

मैं कानून से बड़ा नहीं: मनमोहन

मैं कानून से बड़ा नहीं: मनमोहन

नई दिल्ली. 24 अक्टूबर 2013

मनमोहन सिंह


प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कोयला ब्लॉक घोटाला मामले में सीबीआई की पूछताछ के लिए खुद को तैयार बताते हुए कहा है कि वे कानून से बड़े नहीं हैं. रूस और चीन की यात्रा से लौटने के बाद श्री सिंह ने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार पर जो घोटाले के आरोप लगाए जाते हैं वह संप्रग के पहले कार्यकाल से जुड़े हैं, संप्रग के दूसरे कार्यकाल से नहीं.

यह पूछे जाने पर कि कोयला ब्लॉक आवंटन में कथित गड़बड़ी जैसे मुद्दे से 'उनके प्रधानमंत्री के कार्यकाल पर काली छाया पड़ सकती है', प्रधानमंत्री ने जवाब दिया, "इसका मूल्यांकन इतिहास करेगा."

गौरतलब है कि संप्रग-1 सरकार में वर्ष 2006 में कोयला मंत्रालय प्रधानमंत्री के ही पास था. उन्होंने कहा, "यदि सीबीआई को या कोई अन्य इस विषय में कुछ भी पूछने की इच्छा है तो पूछताछ कर सकता है. मेरे पास छिपाने के लिए कुछ भी नहीं है."  उल्लेखनीय है कि भाजपा ने प्रधानमंत्री से सीबीआई पूछताछ किए जाने की मांग की है.

श्री सिंह ने यह भी कहा, "मैं अपने कर्तव्य का निर्वाह कर रहा हूं और करता रहूंगा. मेरे 10 वर्षो के प्रधानमंत्री के कार्यकाल पर क्या असर पड़ेगा इसका फैसला इतिहासकार करेंगे."

यह पूछने पर कि क्या वे सोचते हैं कि सर्वोच्च न्यायालय अपने कई फैसलों में 'अति सक्रिय' दिखाई देता है और इसका कारण सरकार की नीतिगत कमजोरी है? प्रधानमंत्री ने इसका उत्तर टाल दिया.

लोकसभा चुनावों के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को 'निर्णायक' जीत मिली थी. उन्होंने साथ ही कहा, "मुझे पूरा भरोसा है कि जब 2014 का परिणाम आएगा तो देश फिर से चकित रह जाएगा."

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि आक्रामक चुनाव अभियान की वजह से माना जा रहा है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कांग्रेस से आगे चल रही है लेकिन 'धीमी गति से लगातार चलने वाले' ही दौड़ जीत जाते हैं.