पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

राहुल के बयान से गरमाई सियायत

राहुल के बयान से गरमाई सियायत

नई दिल्ली. 25 अक्टूबर 2013

राहुल गांधी


कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को मुजफ्फरनगर दंगों में पीड़ित हुए मुस्लिम युवकों के संबंध में दिए गये बयान के लिए कड़े विरोध का सामना करना पड़ा है. जहां भाजपा ने इस पर आपत्ति जताते हुए इसकी शिकायत चुनाव आयोग से कर दी है वहीं उत्तरप्रदेश की सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी ने प्रश्न किया है कि खूफिया विभाग के अधिकारी मामले की जानकारी राहुल गांधी को क्यों दे रहे हैं.

गौरतलब है कि गुरुवार को इंदौर में आयोजित एक चुनावी रैली में राहुल गांधी ने कहा था कि उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर में हाल ही में हुए दंगों के पीड़ेतों के संपर्क में पाकिस्तानी खूफिया एजेंसी आईएसआई के अधिकारी हैं. उन्होंने कहा कि एक खुफिया अधिकारी ने उनके दफ्तर में आकर ये जानकारी दी कि आईएसआई के लोगों ने उन 10-15 मुसलमान युवकों को बरगलाना शुरू कर दिया है, जिनके भाई-बहन दंगों में मारे गए हैं.

राहुल गांधी ने यह भी कहा था कि भाजपा ने मुजफ्फरनगर में दंगों की आग भड़काई थी जिसको बुझाने का काम कांग्रेस कर रही है. जैसा माना जा रहा था राहुल के इस बयान को लेकर सियासत गरमा गई है.

भाजपा ने राहुल पर जनकर हमला बोलते हुए कहा है कि राहुल गांधी अपने राजनीतिक फायदे के लिए भाजपा का नाम दंगों से जोड़ रही है. भाजपा प्रवक्ता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि राहुल ने मुसलमानों पर मेड इन आईएसआई का ठप्पा लगा दिया है. भाजपा ने गृह मंत्री से भी मामले पर सफाई देने की मांग की है.

उन्होंने कहा कि 'इस तरह की सांप्रदायिक सनसनी फैलाकर वोटों की राजनीति करने की कोशिश हो रही है. राहुल गांधी तो सुपर युवराज हैं. अगर वह कहते हैं कि खुफिया एजेंसियां उनको ऐसा बताती हैं तो क्या उन्होंने इस बात को प्रधानमंत्री के साथ शेयर किया है. आप बताना क्या चाहते हैं कि आईएसआई यहां कानूनी रूप से काम कर रही है.'