पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >महाराष्ट्र Print | Share This  

कैंपाकोला कंपाउंड में तोड़फोड़ पर रोक

कैंपाकोला कंपाउंड में तोड़फोड़ पर रोक

नई दिल्ली. 13 नवंबर 2013

सुप्रीम कोर्ट


सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को मुंबई के कैंपा कोला आवासीय परिसर के 96 फ्लैट्स के ढहाए जाने की कार्रवाई पर 31 मई 2014 तक के लिए रोक लगा दी है. न्यायमूर्ति जी.एस.सिंघवी की अध्यक्षता वाली सर्वोच्च न्यायालय की पीठ ने कैंपा कोला आवासीय परिसर के फ्लैट्स के ढहाए जाने पर रोक लगा दी.

इससे पहले बुधवार को ही बृह्णमुंबई नगरनिगम (बीएमसी) सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व आदेश के अनुसार इन फ्लैट्स को ढहाने वाला था. न्यायालय ने बिल्डरों द्वारा नियमों के उल्लंघन की बात कहते हुए इन फ्लैट्स को गिराने के आदेश दिए थे.

न्यायालय ने इस आदेश पर वरिष्ठ अधिवक्ता फली नरिमन की जिरह के बाद रोक लगाई. औपचारिक आदेश दोपहर दो बजे जारी किया जाएगा. इधर, इससे पहले बीएमसी का एक दस्ता पुलिस बल की मौजदूगी में बुधवार को अवैध इमारतों को ढहाने के लिए कैंपा कोला परिसर में प्रवेश कर गया था.

स्थानीय लोगों ने मंगलवार को बीएमसी के दस्ते और पुलिस को आवासीय परिसर और पार्किं ग के गेट के सहारे रोक दिया था. बीएमसी और पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार शाम यहां के अवैध फ्लैट्स और परिसर की बिजली, पानी और गैस की आपूर्ति रोक दी थी.

वे हालांकि, आक्रामक तरीके से बुधवार सुबह वापस लौटे और बुलडोजर के सहारे मुख्य द्वारा को तोड़ते हुए परिसर में घुस आए. उनका विरोध कर रहे लोगों को हिरासत में लिया गया. इस दौरान यहां भारी भीड़ जमा हो गई थी.

एक स्थानीय निवासी ने मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण पर दो तरह की बातें करने का आरोप लगाते हुए कहा कि उन्होंने पहले भारत के महाधिवक्ता से राय लेने की बात कही और साथ ही साथ इमारत के ढहाने के आदेश दे दिए.

कैंपा कोला परिसर में 102 अवैध इमारतें हैं जिनमें 140 परिवार रहते हैं, इसके निवासियों का कहना है कि ढहाने की प्रक्रिया में वे बेघर हो जाएंगे.

इधर राज्य सरकार ने इस मामले में हस्तक्षेप से इंकार कर दिया, जबकि असल में कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) सहित सभी राजनीतिक पार्टियों ने स्थानीय लोगों के प्रति सहानुभूति जताई. स्थानीय लोग इस दौरान इस बात पर अडिग रहे कि उन्हें बिल्डर की गलती सजा मिल रही है, जिसने उन्हें धोखा दिया.

कैंपा कोला में सात ऊंची इमारतें हैं जो लगभग तीन दशक पुरानी हैं. बिल्डरों को इसमें सिर्फ पांच मंजिला इमारतें बनाने की इजाजत थी, उन्होंने इन इमारत पर कई मंजिलें खड़ी कर लीं. सभी अवैध मंजिलें और फ्लैट्स तोड़-फोड़ का संकट झेल रहे हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in