पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति > Print | Share This  

कांग्रेस ने सत्ता को विशेषाधिकार माना: मोदी

कांग्रेस ने सत्ता को विशेषाधिकार माना: मोदी

नई दिल्ली. 23 नवंबर 2013

मोदी


कांग्रेस पार्टी पर हमला बोलते हुए भारतीय जनता पार्टी के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस सोचती है कि सत्ता पर उसका स्वयंभू अधिकार है इसीलिए उसकी सभी नीतियां चुनाव जीतने के लिए होती हैं, देश के विकास के लिए नहीं.

राष्ट्रीय राजधानी में एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, "कांग्रेस सत्ता भोगने का आदी बन चुकी है."

उन्होंने कहा, "कांग्रेस जो भी नीति बनाती है वह केवल चुनाव जीतने के लिए बनाती है. उसकी नीतियां विकास के लिए नहीं होती. वे कभी देश के लिए कुछ नहीं करते." उन्होंने यह भी कहा कि राष्ट्रीय राजधानी देश के कई छोटे महानगरों से भी बदतर है.

मोदी ने कहा, "कांग्रेस 15 वर्षो से सत्ता पर काबिज है, लेकिन अपने नागरिकों को पीने का पानी भी मुहैया नहीं करा सकी है. उन्होंने यमुना की सफाई पर करोड़ों रुपये बहाए हैं, लेकिन नदी आज भी मैली है. मैं इस इलिट क्लब को गुजरात में साबरमती को देखने का न्योता देता हूं."

उन्होंने कहा, "लोग मुझसे गुजरात मॉडल के बारे में पूछते हैं. वैसा करने के लिए किसी को अंतर्राष्ट्रीय विश्वविद्यालयों में नहीं जाना होगा, मिट्टी के सपूत के रूप में आप उसे कर दिखाएंगे."

उन्होंने गुजरात में जल संकट को किस तरह दूर किया इसका उदाहरण दिया. नर्मदा के जल को गुजरात के 9000 गांवों तक पहुंचाने और सीमा पर तैनात सैनिकों तक पानी पहुंचाने का उदाहरण दिया.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in